5AC423FB902F99F7B04A6C0E44CE75FA
Breaking News

आजकल लोग की सेहत पर हावी हो रही सोशल मीडिया

आजकल लोग सोशल मीडिया पर जितना समय बिताते हैं उतना अपनों के साथ नहीं बिताते. ऐसे में ये बात भी सही है कि सोशल मीडिया का असर अब लोगों के स्‍वास्‍थ्‍य पर भी पड़ने लगा है. एक हालिया शोध में भी यही परिणाम सामने आए हैं.

Image result for सेहत पर हावी सोशल मीडिया

शोध में पता चला है कि सोशल मीडिया पर सकारात्मक बातचीत की तुलना में नकारात्मक अनुभव ज्यादा असर डालते हैं. इन नकारात्मक अनुभवों से युवाओं में अवसाद वाले लक्षणों की संभावना बन जाती है.

शोध के निष्कर्ष बताते हैं कि सोशल मीडिया के नकारात्मक अनुभव अवसाद वाले लक्षणों से जुड़े हैं. निष्कर्षों का प्रकाशन पत्रिका ‘डिप्रेशन एंड एंग्‍जाइटी’ में किया गया है.
अमेरिका के पीट्सबर्ग विश्वविद्यालय के ब्रायन प्रिमैक ने कहा, ‘हमने पाया है कि सोशल मीडिया के सकारात्मक अनुभव, बहुत आंशिक रूप से कम अवसाद वाले लक्षणों से जुड़े हैं. लेकिन नकारात्मक अनुभव मजबूती से या लगातार उच्च अवसाद के लक्षणों से जुड़े हैं’.

इस शोध के लिए शोधकर्ताओं ने 1,179 पूर्णकालिक छात्रों के सोशल मीडिया के इस्तेमाल व अनुभव का सर्वेक्षण किया. इनकी आयु 18 से 30 के बीच रही. प्रतिभागियों ने अवसाद वाले लक्षणों के आंकलन के लिए एक प्रश्नावली भी भरी.

शोधकर्ताओं ने पाया कि सोशल मीडिया पर सकारात्मक अनुभव में हर 10 फीसदी की बढ़ोतरी अवसाद के लक्षणों में चार फीसदी की कमी करती है, लेकिन ये परिणाम सांख्यिकीय रूप से महत्वपूर्ण नहीं है, इसका अर्थ है कि यह निष्कर्ष बेतरतीब अवसर की वजह से हो सकते हैं.

शोधकर्ताओं ने कहा कि हर 10 फीसदी नकारात्मक अनुभव में वृद्धि 20 फीसदी अवसाद लक्षणों में वृद्धि से जुड़ी हुई है, यह एक महत्वपूर्ण सांख्यिकीय निष्कर्ष है.

x

Check Also

AIDS से भी खतरनाक है भारत में फैल रही ये बीमारी, अब तक 90 लाख लोगों की ले चुका है जान

हेल्थ डेस्क। पढ़कर या सुनकर हैरानी भले ही हो, लेकिन तेजी से बढ़ता वायु प्रदूषण ...