5AC423FB902F99F7B04A6C0E44CE75FA

इन तीन राज्यों में कुदरत का कहर, मौसम ने जारी की चेतावनी

desk. यूं तो पूरा उत्तर भारत सर्दी से कांप रहा है, मगर तीन राज्य ऐसे हैं, जहां बेहिसाब बर्फबारी ने जिंदगी की रफ्तार पर ब्रेक लगा दी है। जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में बर्फ का डेरा है। गिरते पारे के बीच लगातार हो रही बर्फबारी से जीवन अस्त व्यस्त है। पहाड़ों पर बर्फबारी का मैदानों में असर दिख रहा है। दिल्ली-एनसीआर में रविवार की सुबह हल्की-फुल्की बूंदाबादी हुई है।

जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में इतनी भयानक बर्फबारी हुई है कि हर कोई ठिठुर गया है। कश्मीर का कोना-कोना कुदरत की सफेद चादर में लिपटा हुआ है। बेहिसाब बर्फबारी ने कश्मीर घाटी में लोगों की जिंदगी जम गयी है। आसमान से लगातार सफेद आफत गिर रही है। लोगों का कहीं आना-जान मुश्किल हो गया है। पेड़ों के ऊपर भी बर्फ की मोटी चादर फोम की तरह जमी है। एक इंच भी जमीन का दर्शन मुश्किल हो गया है। बर्फ में पेड़ों की जड़े अदृश्य हो गयी हैं।

बर्फबारी की वजह से शनिवार से श्रीनगर एयरपोर्ट से कोई विमान उड़ान नहीं भर सका है। शुक्रवार की शाम श्रीनगर में उतरे जहाज रनवे और मौसम साफ होने का इंतजार कर रहे हैं। प्रचंड बर्फबारी से जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे भी बंद हो गया है। रास्तों से बर्फ को हटाने का काम लगातार जारी है। लेकिन, कुदरत के आगे तमाम सरकारी कोशिशें बौनी साबित हो रही हैं।

कश्मीर की ही तरह उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में भी बेहिसाब बर्फबारी ने लोगों का जीना दुश्वार कर रखा है। दोनों राज्यों में जबरदस्त बफर्बारी ने जिंदगी की रफ्तार पर ब्रेक लगा दी है। बाबा केदार के दरबार में नए वर्ष की शुरुआत जबरदस्त बर्फबारी से हुई है। मंदिर के आस-पास की पहाड़ियां और चट्टानें बर्फ से ढक गई हैं। न्यूनतम तापमान माइनस 10 डिग्री तक पहुंच गया है। केदारनाथ में एक फीट से ज्यादा बर्फ गिर चुकी हैं। ठंड इतनी बढ़ गई है कि हाथ-पांव जमने लगे हैं. बर्फबारी से मंदाकिनी नदी का पानी भी जम रहा है। उत्तराखंड के कई इलाके भीषण बर्फबारी की मार झेल रहे हैं। पड़ोसी राज्य हिमाचल प्रदेश का भी हाल बर्फबारी ने बेहाल कर दिया है।

मौसम विभाग ने आज यानि रविवार तक हिमाचल के ऊंचाई वाले इलाकों में भारी बर्फबारी की चेतावनी जारी की है वेस्टर्न डिसटर्बेंस की वजह से हिमाचल प्रदेश में मौसम और बिगड़ सकता है।

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com