5AC423FB902F99F7B04A6C0E44CE75FA

इस टॉयलेट में न पानी की जरूरत और न ही सीवर की, भविष्य के इस टॉयलेट के बारे में जानकर दंग रह जाएंगे आप!

डेस्क ।। सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स ने अभिनव प्रयोग कर सव्छ्ता और सफाई के क्षेत्र में क्रांति ला दी है। बिल एंड मेलिंडा गेट्स ने एक ऐसा टॉयलेट तैयार किया है जिसमें न तो पानी की जरुरत होगी न ही सीवर लाइन तक संपर्क पाइप की जरुरत पड़ेगी। इसे भविष्य का एक तरफ जहां भारत सरकार देश में स्वच्छता पर अरबों रुपए खर्च कर रही है, वहीं बिल गेट्स की इस पहल से भारत जैसे कई देशों को बहुत लाभ होने की उम्मीद है।

भविष्य का टॉयलेट

मंगलवार को माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स पड़ोसी देश चीन में आयोजित टॉयलट एक्सपो में पहुंचे। इस बार उनके पास कोई सॉफ्टवेयर नहीं भविष्य का टॉयलेट था। इस टॉयलेट में कई अनोखी खूबियां हैं। इस टॉयलट में पानी या सीवर की आवश्यकता नहीं होती।

पढ़िए- नोटबंदी के 2 साल बाद हुआ बड़ा खुलासा, जानकर अाप भी पीएम मोदी से हो जाएंगे निराश!

इसमें कुछ रसायनों का प्रयोग किया जाता है जिसे वह मानव अपशिष्टों को उर्वरक में बदल देता है। इससे इस टॉयलेट में मल निस्तारण की भी चिंता नहीं होगी। इससे लोगों को बीमारियों से बचाने में मदद मिलेगी। बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन के सहयोग से बने इस टॉयलट की खूबियों के बारे में बोलते हुए बिल गेट्स ने कहा कि दुनिया के विकसित देशों में पर्याप्त और सुरक्षित टॉयलट नहीं हैं।

खर्च हुए 1500 करोड़

भविष्य के टॉयलेट के बारे में बोलते हुए गेट्स ने कहा कि वह दुनिया को ऐसा साफ-सुथरा समाज देना चाहते हैं, जहां लोगों को गंदगी से होने वाली समस्याओं से बचाया जा सके। उन्होंने बताया कि बीते सात साल में उन्होंने अपनी संस्था की मदद से स्वच्छता शोध पर 1500 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।

हानिकारक है पारम्परिक टॉयलेट

बिल गेट्स ने बताया कि एक साधारण टॉयलट में तकरीबन 20 लाख करोड़ रोटावायरस, 2 हजार करोड़ शिगेला जीवाणु और परजीवी कीड़ों के लगभग 1 लाख अंडे पाए जाते हैं। गेट्स ने कहा कि इससे यह साबित होता है कि ये पारंपरिक टॉयलेट हानिकारक और असुरक्षित है। गेट्स ने 400 ऐसे तरीकों के बारे में बताया, जिससे टॉयलेट को जीवाणुरहित और सुरक्षित बनाया जा सकता है।

फोटो- फाइल

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com