5AC423FB902F99F7B04A6C0E44CE75FA
Breaking News

सामने आए पाकिस्तान के 5 बड़े झूठ, हिंदुस्तान ने की जमकर खिचाई

नई दिल्ली ।। आर्थिक तंगी से बेहाल हो चुके पाकिस्तान का एक बार फिर झूठ बेनकाब हुआ है। भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के हाल ही में दिए बयान को नकारते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच संबंधों को सुधारने को लेकर पड़ोसी देश कुछ नहीं कर रहा है।

टाइम्स ऑफ इंडिया के रिपोर्ट के मुताबिक, भारत ने पाकिस्तान को आतंकवाद पर बोले गए झूठ पर भी घेरा है। सूत्रों के हवाले से बताया गया है आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय पीएम इमरान खान केवल आतंकवादियों को समर्थन प्रदान कर रहे है। इसके साथ ही पाकिस्तान की सरकार आतंकियों समूहों को मुख्यधारा में लाने की कोशिश कर रहा है।

पढ़िए- भारत में छुपे आस्तीन के सांप, WhatsApp पर खुफियां बातें लीक करते हुए पकड़े गए वायुसेना के 40 अफसर

इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी के अनुसार प्रधानमंत्री ने भारत के साथ वार्ता की फिर से इच्छा जताई है। उन्होंने कहा कि भारत ने उनके शांति प्रस्तावों पर जवाब नहीं दिया। भारत को एक कदम आगे बढ़ाने की पेशकश दी गई थी और हम दो कदम उठाते। लेकिन भारत ने वार्ता की पाकिस्तान की पेशकश कई बार ठुकरा दी। भारत का कहना है कि आतंकवाद और संवाद साथ-साथ नहीं हो सकता।

जिसके जवाब में भारत सरकार ने पाकिस्तान के 5 झूठ गिनवाए है। इसके जरिए पाकिस्तान की पोल खुल जाएगी। पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने इस साल नवंबर में भारतीय पत्रकारों के एक समूह से कहा था कि पाकिस्तान अपनी धरती का इस्तेमाल आतंकवाद के लिए नहीं होने देगा।

पहला झूठ: पाकिस्तान के गृह राज्य मंत्री शहीर अफरीदी ने जमात उद दावा (जेयूडी) नेता और संयुक्त राष्ट्र द्वारा वर्जित आतंकवादी हाफिज सईद के प्रतिनिधियों से मुलाकात की और कहा कि सईद और उसके संगठन को पाकिस्तान सरकार का खुला समर्थन मिला है। यह मुलाकात पिछले साल दिसंबर महीने में इस्लामाबाद में आयोजित एक कार्यक्रम में हुई।

दूसरा झूठ: जमात उद दावा (जेयूडी) ने नवंबर 2018 में पीओके (POK) में बचाव केंद्र खोले, जिनका उद्घाटन एक स्थानीय पीटीआई नेता ने किया था।

तीसरा झूठ: जमात उद दावा (जेयूडी) और उसके एनजीओ फलाह-ए-इन्सानियत फाउंडेशन (FIF) प्रतिबंधित संगठनों की सूची से तब बाहर हो गया जब राष्ट्रपति के उस अध्यादेश की समय सीमा खत्म हो गई, जिसमें उन्हें प्रतिबंधित संगठनों में शुमार किया गया था।

चौथा झूठ: प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के नेता और यूनाइटेड जेहाद काउंसिल (यूजेसी) के अध्यक्ष सईद सलाहुद्दीन ने पिछले साल अक्टूबर में जम्मू-कश्मीर में सक्रिय आतंकवादियों के लिए पाकिस्तान से सैन्य समर्थन मांगा।

5वां झूठ: पाकिस्तान के धार्मिक मंत्री नूर-उल-हक कादरी ने पिछले साल सितंबर महीने में सईद के साथ एक सार्वजनिक मंच साझा किया, जहां दोनों ने भारत विरोधी बयान दिए। कादरी के मुताबिक उन्होंने इमरान खान के निर्देश पर इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया था।

फोटो- फाइल

x

Check Also

VHP के पूर्व अध्यक्ष विष्णुहरि डालमिया का निधन, काफी दिनों से चल रहे थे बीमार

Agra. रामजन्म भूमि आन्दोलन के प्रमुख नेताओं में से एक, विश्व हिन्दू परिषद के पूर्व ...