5AC423FB902F99F7B04A6C0E44CE75FA

पत्रकार आशीष धीमान और भाई की हत्या की ये है पूरी दास्तान और कार्रवाई न करने के पीछे सरकार की मजबूरी!

लखनऊ।। उत्तर प्रदेश से रविवार को सहारनपुर से पत्रकार और उसके भाई की मौत की आई खबर से मीडिया-जगत में सनसनी फ़ैल गयी। खबर के मुताबिक छोटे से विवाद को बहाना बनाकर आरोपितों ने दैनिक जागरण में कार्यरत पत्रकार आशीष कुमार धीमान और उनके छोटे भाई को गोली मार दी। भाई की मौके पर ही मृत्यु हो गई जबकि आशीष ने हॉस्पिटल में दम तोड़ दिया है।

जानकारी के मुताबिक आशीष धीमान दैनिक जागरण अख़बार में कार्यरत थे। इससे पहले हिन्दुस्तान और जनवाणी अखबार में भी आशीष धीमान काम कर चुके हैं। मौहल्ला माधव नगर में आशीष धीमान अपने परिवार के साथ रहते थे। मिली जानकारी के मुताबिक उनके यहां गाय है और पड़ोसी महिपाल सैनी ने आज सुबह बारिश के चलते फैले गोबर को लेकर आशीष की मां के साथ अभद्रता कर दी। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच विवाद शुरू हो गया। इसी बीच महिपाल ने आशीष के सिर पर डंडा मार दिया। विवाद बढ़ते देख आशीष के मामा राजेंद्र कुमार दोनों भाइयों को घर के अंदर ले गये।

लेकिन महिपाल सैनी तमंचा लेकर आशीष धीमान के घर में पहुंच गया और उसने फायरिंग शुरू कर दी। गोली आशीष के छोटे भाई आशुतोष को लगी और उसने मौके पर ही दम तोड़ दिया। इसके बाद महिपाल ने आशीष को निशाना बनाते हुए गोली दाग दी और महिपाल अपने बेटे गौरव के साथ मौके से भाग निकला। आशीष की भी मौके पर ही मौत हो गई।

मौके पर DIG उपेंद्र अग्रवाल, SSP दिनेश कुमार समेत तमाम आला आधिकारी पहुंचे और उन्होंने मामले की जानकारी ली। मृतक आशीष के मामा राजेंद्र कुमार ने महिपाल सैनी समेत 6 लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है।

गौरतलब है कि आशीष और उसके भाई की मौत के बाद अब परिवार में सिर्फ उसकी प्रेग्नेंट पत्नी और बूढ़ी मां रह गई है। आशीष के पिता की दो वर्ष पहले ही कैंसर के चलते मृत्यु हो गई थी।

ये है घटना की पूरी रिपोर्ट जो स्थानीय पुलिस को कटघरे में खड़ा करती है, इसके साथ ही कुछ सवाल हैं, जिनके जवाब अभी अनसुलझे हैं।

घटनास्थल पर इन सवालों के साथ ही पुलिसिया सिस्टम की सड़ांध को भी महसूस किया जा सकता है। माधोनगर चौक से बेहट रोड को जाने वाले मुख्य मार्ग के दाहिनी तरफ की तीसरी गली के मुहाने पर युवा पत्रकार आशीष कुमार धीमान का मकान है। इस तरफ दो मंजिला मकान के दरवाजे मुख्य मार्ग और गली में दोनों तरफ हैं। मुख्य मार्ग के उस पार सामने ही आरोपियों का मकान है, जिसके प्रवेश द्वार के बराबर में दुकान के शटर पर “राणा डेयरी” का बोर्ड टंगा है।

आशीष के घर के बाहर तीन-चार गाय बंधी हैं। बताते हैं कि आरोपी परिवार का मुखिया महिपाल सैनी करीब ढाई साल पहले शामली के झिंझाना क्षेत्र से यहां आकर बसा था, जो अपराध के लिए कुख्यात है। दुकान में दो वर्ष पहले तक कोई युवक किराये पर इस दुकान में डेयरी का काम करता था और आरोपियों ने उसे मारपीट के बाद भगा दिया था। तब से इसमें आरोपी परचून की दुकान करते थे। इलाके के लोग बताते हैं कि आरोपी यहां हरियाणा से तस्करी कर लाई गई शराब को अवैध रूप से बेचते थे। दो साल पहले इस को लेकर आशीष ने एक दैनिक अखबार में विस्तृत खबर भी प्रकाशित की थी। तभी से वे आशीष से रंजिश रखते थे।

सुबह 9.30 बजे बारिश की फुहारों में लोग घरों में थे, तभी यह दोहरा हत्याकांड अंजाम दिया गया। इसके लिए बाकायदा आरोपियों ने पूरी प्लानिंग की और विवाद के लिए मौके की इंतजार में बैठे थे। आशीष की बूढ़ी मां उर्मिला ने झाड़ू लगाने के बाद नाले में कूड़ा फेंका तो पड़ोसी महिपाल सैनी, सन्नी सैनी और उसके एक अन्य भाई ने आशीष के घर पर पहले लाठी डंडों से हमला बोला। आशीष, उसके भाई आशुतोष को लाठियों से पीटकर लहूलुहान कर दिया।

Loading...

घायल अवस्था में आशीष ने अपने एक दोस्त को फोन किया, “जल्दी पुलिस चौकी पर फोन करके सूचना करो और घर आओ। हमारा झगड़ा हो गया है।” इस फोन की रिकॉर्डिंग में इससे पहले आशीष कुछ कह पाता तभी फायरिंग की आवाजें आती हैं और कॉल डिस्कनेक्ट हो जाती है। आशुतोष की मौके पर और आशीष की अस्पताल ले जाते हुए मौत हो गई। हमलावर मौके से हथियारों के साथ बेखौफ फरार हो गए। आशीष की मां भी गोली लगने से घायल हैं।

घटनाक्रम सिर्फ इतना जरूर है लेकिन इसके पीछे की कहानी काफी सुनियोजित है। घायल उर्मिला बताती हैं कि एक दिन पहले ही आरोपियों ने अपने घर का सामान गाड़ियों में लादकर अन्यत्र भेज दिया था। उन्हें अंदाजा नहीं था कि ये सब हत्या की प्लानिंग है। आशीष अपने घर में अकेला कमाने वाला नौजवान था और एक हफ्ते पहले ही उसे दैनिक जागरण में सहारनपुर कार्यालय में नौकरी मिली थी। इससे पहले वह दैनिक जनवाणी और हिंदुस्तान में अपनी सेवाएं दे चुका था। आशीष के पिता प्रवीण की दो वर्ष पूर्व ही कैंसर की बीमारी से मृत्यु हुई थी। डेढ़ वर्ष पहले ही आशीष का विवाह हुआ था। पत्नी रूची आठ माह की गर्भवती है।

इस पूरे घटनाक्रम में पुलिस की बड़ी लापरवाही या यूँ कह लें कि अंदरखाने आरोपियों के साथ मिलीभगत की बात सामने आ रही है, जो खासतौर पर खबरों और पत्रकारों को नजरअंदाज करने से पैदा होती है। दो वर्ष पहले छपी खबर का यदि पुलिस ने संज्ञान लेकर कोई सख्त कार्रवाई की होती तो शायद आरोपियों के हौसले बुलंद होकर हत्या जैसे जघन्य अपराध की योजना तक न पहुंच पाते। एक पाश इलाके में परचून की दुकान पर लगातार शराब बेचे जाने की जानकारी क्या शहर कोतवाली पुलिस को नहीं थी? अभी पिछले दिनों सहारनपुर में जहरीली शराब से 100 से अधिक मौतों के बाद चले अभियान में भी इन शराब बेचने वालों पर पुलिस की नजर क्यों नहीं गई? यह आसानी से समझा जा सकता है।

मौके पर इलाके के लोग पुलिस अफसरों के सामने ही बता रहे थे कि महिपाल सैनी और उसके लड़के नाई की दुकान पर भी अवैध पिस्टल सामने रखकर शेविंग कराते थे। सवाल यह भी है कि पुलिस का मुखबिर तंत्र क्या कर रहा था? यह तंत्र सक्रिय था तो पुलिस किन कारणों से इन पर हाथ डालने में निष्क्रिय थी? क्या आरोपियों को कोई राजनीतिक संरक्षण हासिल था या पुलिस व्यवस्था को इन्होंने खरीद लिया था?

वहीँ सीएम योगी ने मृतकों के परिवार को 5-5 लाख रुपये की आर्थिक सहायता की घोषणा की है, लेकिन क्या इससे परिवार के दो सपूतों की भरपाई हो पायेगी? SSP दिनेश कुमार प्रभु ने पूछे जाने पर कहा, “सुनियोजित हत्या के बिंदु पर जांच हो रही है। पुलिस की तीन टीमें गंभीरता से आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास कर रही हैं।”

लेकिन पुलिस कितनी गंभीर है, इस बात का अंदाज घटना के बाद पुलिस द्वारा किये गये लाठीचार्ज से लगाया जा सकता है। आक्रोशित महिलाएं आरोपियों के घर में घुसने का प्रयास कर रही थीं तो पुलिस ने इन पर लाठीचार्ज कर दिया। मीडिया के पास इसके VIDEO फुटेज मौजूद हैं। लेकिन स-SSP ने CO से मिले फीडबैक के बाद लाठीचार्ज की घटना से ही इन्कार कर दिया।

हालाँकि लखनऊ में बैठे बड़े नौकरशाह जिले के अफसरों से लगातार फीडबैक ले रहे हैं, मरने और मारने वालों की जातियां पूछ रहे हैं। वजह साफ है कि सहारनपुर की गंगोह विधानसभा सीट पर उप-चुनाव होना है और यहां आरोपियों के सजातीय वोट निर्णायक हैं। लेकिन पत्रकार लाचार, बेबस और असंगठित हैं। इसे भी नियती पर छोड़ दिया जाएगा और इंसाफ की उम्मीद उस सिस्टम से की जा रही है, जिसने शराब माफिया को दो वर्ष में युवा पत्रकार और उसके भाई को कत्ल करने का पूरा मौका दिया। आरोपियों के घर में अवैध हथियार, हत्या से एक दिन पहले घर का सामान अन्यत्र भेजने और मामूली बात पर दोहरा हत्याकांड अंजाम देने की घटना क्या सुनियोजित नहीं कही जायेगी?

देर शाम को आनन-फानन आशीष धीमान और उनके भाई का भारी पुलिस बल की मौजूदगी में अंतिम संस्कार कर दिया गया है।

साभार: वरिष्ठ पत्रकार रियाज हाशमी।

Loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com