योगी से मिलने के बाद व्यक्ति ने कहा 1984 के दंगों के बाद पहली बार हुआ ये अपमान

img

www.upkiran.org

यूपी किरण ब्यूरो

उत्तर प्रदेश/गोरखपुर।। सीएम योगी आद‍ित्यनाथ ने शुक्रवार को गोरखनाथ मंद‍िर का दौरा क‍िया। इस दौरान उन्होंने पूजा-पाठ कर रहे लोगों से उनका हाल-चाल जाना।

बाद में जनता दरबार लगाया और लोगों की समस्याएं सुनीं। इस बीच योगी से म‍िलने आए एक स‍िख फरियादी से सिक्युरिटी ने कृपाण और पगड़ी उतारने को कहा। जब शख्स ने इसका विरोध किया तो उसे अंदर जाने से रोक दिया गया।

जनता दरबार में धर्मशाला बाजार के रहने वाले सरदार तेजपाल सिंह सीएम से मिलने पहुंचे थे, लेक‍िन उन्हें बाहर खड़े सिक्युरिटी ने तलाशी के लिए रोक लिया। पहले उन्‍हें कृपाण निकालने के लिए कहा।

जब तेजपाल ने इसका विरोध किया तो उन्‍हें अंदर जाने से रोक दिया गया। इस पर उन्‍होंने कृपाण निकालकर दे दिया।

जब तेजपाल अंदर जाने लगे तो सिक्युरिटी ने उन्‍हें फिर रोक लिया और पगड़ी उतारकर जांच कराने को कहा, लेकिन उन्‍होंने पगड़ी उतारने से इनकार कर दिया।

तेजपाल ने कहा कि वे शुरू से सीएम से म‍िलने आते रहे हैं। इसके पहले तो इस तरह से उनकी जांच नहीं की गई। इस पर वहां मौजूद अन्य लोगों ने तेजपाल का सपोर्ट क‍िया, ज‍िसके बाद वह लाइन में लगकर सीएम से मिलने पहुंचे।

CM ने सिक्युरिटी को लगाई फटकार

जब वह योगी से मिले तो उन्‍होंने सिक्युरिटी की शिकायत की। सीएम ने भी मामले को गंभीरता से लेते हुए अपने सेवकों से सुरक्षाकर्मियों को समझाने के लिए कहा।

इसके बाद सेवक और कुछ पुलिसकर्मी तेजपाल सिंह को बाहर लेकर आए और मेन गेट पर तैनात सिक्युरिटी पर्सनल्स को फटकार लगाई।

तेजपाल सिंह ने कहा, ”हिंदुस्तान में इस तरह की घटना, वो भी गोरखनाथ मंदिर परिसर में होना मेरे लिए काफी कष्‍टदायी है।”

फोटोः फाइल

इसे भी पढ़े

http://upkiran.org/3242

Related News