img

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने नीतीश कुमार से गठबंधन और बिहार में रामनवमी पर हुई हिंसा के मुद्दे पर खुलकर बातचीत की. बिहार में नीतीश के साथ आने के बाद फायदा और नुकसान के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह फायदा, नुकसान का सवाल नहीं है. हम करीब 8-9 साल साथ रहे, अटलजी की सरकार में भी केंद्र में साथ रहे. उसके बाद भी 8 साल साथ रहे.

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार, लालू यादव के साथ गए और उनका भ्रष्टाचार सहन नहीं कर सके. इसलिए वो हमारे साथ दोबारा आ गए. नीतीश ईमानदार छवि के नेता हैं और हम लोगों ने बिहार को बनाया है और आगे भी बनाएंगे.

रामनवमी पर हिंसा के सवाल पर उन्होंने कहा कि हिंसा को नियंत्रित किया गया. हम हर समुदाय का सम्मान करते हैं, चाहे वो हिन्दू हो या फिर मुसलमान. उन्होंने कहा कि जहां तक गतिरोध और कानून व्यवस्था की बात है, इस पर काम करने के लिए हमारी कोशिश होनी चाहिए.

कानून मंत्री ने कहा कि नीतीश कुमार एक अनुभवी मुख्यमंत्री हैं, सुशील मोदी एक अनुभवी उप मुख्यमंत्री हैं, मिलकर बिहार को विकास के रास्ते पर ले जाना है. ये काम हम लोग करेंगे, मैं भी आईटी के क्षेत्र में बहुत सहयोग कर रहा हूं.

उन्होंने कहा, ‘मैं देश भर में बीपीओ पर काम कर रहा हूं. पटना में एक बीपीओ सेंटर में गया, वहां 400 बच्चियां काम कर रही हैं. इस तरह से देश को बदलते देखकर खुशी होती है. बिहार के छोटे-छोटे शहरों में बीपीओ आ रहा है.’

ये पूछने पर कि बिहार में इतनी संख्या में बीजेपी नेताओं के होने के बावजूद आप नंबर दो क्यों हैं? इसके जवाब में रविशंकर ने कहा कि जेडीयू बड़ी पार्टी है. नीतीश कुमार पहले भी मुख्यमंत्री थे. इसमें सवाल नंबर दो या नंबर वन का नहीं है. नीतीश कुमार मुख्यमंत्री हैं, हम उनका सम्मान करते हैं और हमारा उनसे गठबंधन है.

--Advertisement--