दहशत में इजरायली पीएम नेतन्याहू! जानें क्यों अपने ही देश में करना पड़ रहा भारी विरोध का सामना

img

गाजा में हमास और इजरायल के बीच युद्ध को लगभग छह महीने होने वाले हैं, मगर ये युद्ध थमने का नाम नहीं ले रहा। इजरायली सेना लगातार बड़े हमले कर रही है, जिसमें हमास के लड़ाकों के साथ निर्दोष लोगों की भी जान जा रही है। ताजा घटनाक्रम में आईडीएफ ने गाजा के अस्पताल के बाहर हवाई हमला किया जिसमें दो फिलिस्तीनियों की मौत हो गई। यहां हजारों शरणार्थी कैंप बनाकर रह रहे हैं।

आईडीएफ ने अलशिफा अस्पताल में हमास के चार कमांडरों को मार गिराने का दावा किया। उनका कहना है कि वह अस्पताल में छिपे हुए थे। इस बीच युद्ध विराम को लेकर दुनियाभर में प्रदर्शन भी हो रहे हैं। न्यूयॉर्क, लंदन, ट्यूनीशिया, अम्मान रामल्ला और कराची में प्रदर्शन हुए और इन मुल्कों में फिलिस्तीनी समर्थकों ने 48वां भूमि दिवस मनाया। इस मौके पर हजारों की तादाद में रैलियां निकाली गई और सीजफायर की मांग की गई।

एक ओर जंग रोकने को लेकर पीएम नेतन्याहू पर भारी अंतरराष्ट्रीय दबाव है, वहीं दूसरी ओर देश के अंदर भी युद्धविराम की मांग को लेकर भारी विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। शनिवार को एक बार फिर हजारों लोग तेल अवीव की सड़कों पर उतर आए और अपनी ही सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। सड़कों पर उतरे लोगों की मांग है कि ये जंग तुरंत खत्म कर बंधकों की रिहाई के लिए चर्चा शुरू की जाए। इसके साथ ही प्रदर्शनकारी पीएम नेतन्याहू समेत पूरे युद्ध कैबिनेट से इस्तीफा मांग रहे हैं। 

Related News