जिले के चार अस्पतालों में प्रतिदिन मिलेगी पुरूष नसबंदी की सेवा

दो अस्पतालों में इस माह में तीन-तीन सेवा दिवस होंगे आयोजित, जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े में पुरूष नसबंदी पर विशेष जोर

महराजगंज॥ जनसंख्या स्थिरता पखवाड़े में स्वास्थ्य विभाग का पुरुष नसबंदी पर विशेष जोर है । विभाग ने जिला अस्पताल सहित चार सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर प्रतिदिन पुरूष नसबंदी के लिए सेवा दिवस के आयोजन का निर्णय लिया है।

nasbandi

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.अशोक कुमार श्रीवास्तव ने सभी आशा कार्यकर्ता, संगिनी तथा एएनएम को निर्देशित किया वह कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अपने-अपने गांव व क्षेत्र में ऐसे लोगों को पुरूष नसबंदी कराने के लिए प्रेरित करें जिनका परिवार पूरा हो गया है और वह परिवार नियोजन की स्थायी सेवा लेने के लिए इच्छुक हों।

उन्हें बताएं कि पुरुष नसबंदी बहुत आसान व सरल है। इसमें चीरा व टांका नहीं लगता है। पुरुष नसबंदी कराने वाले लाभार्थी को तीन हजार रूपये प्रतिपूर्ति राशि भी दी जाती है।

नसबंदी के लिए बतौर सर्जन डाॅ. आरपी राय, डाॅ. अनूप कुमार, डाॅ. बीके शुक्ला, डाॅ. महेश गुप्ता, डाॅ. अरूण कुमार गुप्ता को नामित किया गया है।

परिवार नियोजन कार्यक्रम के सामग्री प्रबंधक मुकेश त्रिपाठी ने बताया कि जिन चार अस्पतालों में पर पूरे जुलाई माह प्रतिदिन नसबंदी सेवा दिवस आयोजित किया जाएगा उसमें जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र निचलौल, बृजमनगंज व लक्ष्मीपुर के नाम शामिल हैं।

इसी प्रकार जिन दो अस्पतालों में तीन-तीन दिन सेवा दिवस आयोजित होंगे उनमें सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र परतावल व रतनपुर के नाम शामिल हैं। परतावल सीएचसी पर 15, 22 व 29 जुलाई को नसबंदी सेवा दिवस आयोजित किए जाएंगे जबकि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रतनपुर पर 16,23 व 30 जुलाई को सेवा दिवस आयोजित किया जाएगा।

निचलौल सीएचसी पर हुई दो पुरूष और 12 महिलाओं की नसबंदी

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र निचलौल पर सोमवार (12 जुलाई) को आयोजित नसबंदी सेवा दिवस पर दो पुरूष तथा 12 महिलाओं को नसबंदी हुई। इसकी पुष्टि परिवार नियोजन सामग्री प्रबंधक मुकेश त्रिपाठी जी ने की। वहीं पर परिवार नियोजन कार्यक्रम के संबंध में गोष्ठी भी आयोजित की गयी। गोष्ठी में अधीक्षक डाॅ.राजेश द्विवेदी ने कहा कि खुशहाल परिवार के लिए छोटा परिवार जरूरी है। इस संदेश को लोगों तक पहुंचाएं। परिवार नियोजन के अस्थायी साधनों अंतरा इंजेक्शन, आईयूसीडी, पीपीआईयूसीडी, छाया आदि के बारे में विस्तार से बताया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *