अजमेर: अंधविश्वास में अँधा परिवार बच्चे की आत्मा लेनें पहुंचा इस जगह, जमा हुई भीड़

अजमेर संभाग के जेएलएन अस्पताल में सोमवार को अंधविश्वास का खेल देखने को मिला। अस्पताल के शिशु विभाग के बाहर एक परिवार के लोग टोना-टोटका करते दिखे. परिजनों ने बताया कि वे बच्चे की आत्मा को लेने आए हैं। अंधविश्वास का खेल देखने के लिए लोग अस्पताल के बाहर जमा हो गए।

Ajmer hospital

जानकारी के अनुसार केकड़ी के देव गांव से सोमवार को एक परिवार जेएलएन अस्पताल पहुंचा. बच्चे विभाग के बाहर टोना-टोटका करते दिखे। परिवार के बुजुर्ग सदस्य नाथूलाल ने बताया कि उनके बेटे दशरथ के बेटे को करीब 13 साल पहले तबीयत खराब होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। बुजुर्ग नाथूलाल ने बताया कि उनके पोते की मौत के बाद घर में कलह शुरू हो गई। खेती में नुकसान होने से घर के लोग बीमार होने लगे। इसके बाद भी जब कोई समाधान नहीं निकला तो परिजन सोमवार को बच्चे की आत्मा को लेने अस्पताल पहुंचे।

परिजन अपने तांत्रिक को लेकर अस्पताल पहुंचे और शिशु विभाग के बाहर टोना-टोटका करने लगे। अंधविश्वास के इस खेल को देखने के लिए अस्पताल के बाहर लोगों की भीड़ जमा हो गई। मीडिया ने जब इस अंधविश्वास के खेल को अपने कैमरों में रिकॉर्ड करना शुरू किया तो घरवालों ने मना कर दिया और कहा कि वे अपने बच्चे की आत्मा लेने आए हैं।

अंधविश्वास का खेल किसी ने नहीं रोका

जेएलएन अस्पताल के बाल विभाग के बाहर सोमवार को चल रहे अंधविश्वास के खेल को देखने के लिए उमड़ी भीड़। लेकिन इसे रोकने के लिए कोई आगे नहीं आया। खास बात यह है कि जब यह अंधविश्वास का खेल चल रहा था, इस दौरान कई डॉक्टर और पुलिसकर्मी वहां से गुजरे लेकिन किसी ने भी इस खेल को नहीं रोका और फिर कुछ घंटों के बाद परिजन अपने बच्चे की आत्मा को वहां से गांव ले गए।

अंधविश्वास पर ध्यान न दें

जेएलएन अस्पताल के सीनियर डॉक्टर अनिल सामरिया ने जहां इसे अंधविश्वास बताया. आत्मा को आज तक किसी ने नहीं देखा। उन्होंने कहा कि तांत्रिक तो लूटपाट का ही काम करते हैं। परिवार को इस ओर ध्यान नहीं देना चाहिए और ऐसे अंधविश्वासों से दूर रहना चाहिए।