बारात में डीजे बजने से नाराज काजी ने नहीं पढ़ाया निकाह, देना पड़ा इतने हजार का जुर्माना

उत्तर प्रदेश के झांसी जिले में एक काजी ने सिर्फ इसलिए निकाह पढ़ाने से इंकार कर दिया क्योंकि निकाह में डीजे बज रहा था। ये मामला झांसी के...

झांसी। उत्तर प्रदेश के झांसी जिले में एक काजी ने सिर्फ इसलिए निकाह पढ़ाने से इंकार कर दिया क्योंकि निकाह में डीजे बज रहा था। ये मामला झांसी के महानगर के पुलिया नंबर 9 स्थित पानी की टंकी के पास स्थित अस्थाई विवाह घर का है। बताया जा रहा है कि जब बारात लड़की के दरवाजे पर पहुंची थी उस वक्त बारात में डीजे बज रहा था जिसे देख काजी ने निकाह पढ़ाने से इंकार कर दिया। काफी मान मनौवल के बाद भी जब शहर का कोई भी काजी निकाह पढ़ाने के लिए तैयार नहीं हुआ तो दोनों पक्ष के लोगों ने मंच से माफी मांगी। वहीं काजी ने जुर्माने के तौर पर 25 हजार रुपये अदा करने की भी घोषणा के दी। चार घंटे की रस्साकसी के बाद बड़ी मुश्किल से निकाह की रस्म पूरी की गई।

nikah

मिली जानकारी के मुताबिक झांसी के पुलिया नंबर नौ स्थित एक परिवार में गुरसराय से बारात आनी थी। इसके लिए लड़की पक्ष वालों ने खाली पड़े मैदान को विवाह घर में बदल दिया था। बारात आने से पहले लड़की पक्ष के लोग उनके स्वागत की तैयारी में जुटे हुए थे। निकाह की रस्म पूरी करने के लिए काजी को भी बुला लिया गया था। बारात में शामिल लोग डीजे की धुन पर नाचते आ रहे थे। बारात जैसे ही निकाह स्थल पर पहुंची तो काजी ने डीजे देखकर नाराजगी जताई और निकाह पढ़ाने से इंकार कर दिया।

काजी का समर्थन इलाके के इमाम कारी सुलेमान, कारी सलीम, हाफिज रिजवान व हाफिज अताउल्ला सहित कई इमामों ने किया। बराती और घराती पक्ष के लोगों ने काजी को मनाने की खूब कोशिश की लेकिन कोई भी काजी निकाह पढ़ाने को तैयार नहीं हुआ। इस पर दोनों पक्ष में लोगों ने शहर के कई काजियों से संपर्क कर निकाह पढ़ाने का आग्रह किया लेकिन स्थिति को भांपते हुए शहर का भी कोई काजी निकाह पढ़ाने नहीं आया।

शादी घर में लगभग चार घंटे के बाद निकाह की रस्म को पूरा पूरी की गई। लड़की के चाचा ने बताया कि लड़के पक्ष के लोगों को पहले ही शरीयत के तरीके से बारात लाने को कहा गया था लेकिन वे लोग बारात में डीजे लेकर पहुंचे जिस पर काजी ने निकाह पढ़ाने से इंकार कर दिया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close