CM Yogi Adityanath का ऐलान, 100 दिन में 25,050 पुल-पुलियों का हो लोकार्पण

जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ने सीएम का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि जिन योजनाओं का आज आपने शुभारंभ किया है विश्वास दिलाता हुं 100 दिन बाद आपसे लोकार्पण करने का निवेदन करूंगा।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मिनिमम गर्वन्मेंट और मैक्सिम गवर्नेंस की राह पर चल रही योगी सरकार अब किसानों की सिंचाई की समस्या को दूर करने के साथ ही उनके आवागमन को भी सुगम बनाने जा रही है। (CM Yogi Adityanath)

CM Yogi Adityanath

सीएम योगी ने नहरों पर बने 25,050 पुल और पुलियों के पुनरोद्धार के लिए सिंचाईं विभाग के समक्ष 100 दिन का लक्ष्य रखा है। प्रदेश में पहली बार इतने व्यापक स्तर पर नहरों पर बने पुल-पुलियों की मरम्मत व पुनर्निर्माण का कार्य होने जा रहा है। कई पुल-पुलिया ऐसे हैं जो 190 वर्ष से भी पुराने हैं।

इस तरह के हजारों पुल-पुलियों के पुनरोद्धार के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने रविवार आवास पर वर्चुअल कार्यक्रम के माध्यम से बैठक की। जिसमें जिले के अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों से बातचीत की और पुराने व क्षतिग्रस्त हो चुके 25,050 पुल-पुलियों के जीर्णोंद्धार व पुनर्निर्माण के लिए 100 दिन के महाअभियान का शुभारंभ किया। साथ ही किसानों के लिए नहरों की पटरियों पर सड़के बनाने पर जोर दिया।

नारियल फुड़वाकर करें शुभारंभ

सीएमCM Yogi Adityanath ने कहा कि निर्माण के सभी जगहों पर विधायकों और सांसदों को को बुलाकर नारियल फुड़वाकर कार्य आगे बढ़ाएं। साथ ही प्रयास करें कि 100 दिन के अंदर ये सभी पुल-पुलिया बन जाएं, जिससे किसानों व आम लोगों के आवागमन को सरल और सहज बना सकें। सीएम ने सिंचाई विभाग को निर्देश दिया कि महाअभियान को 100 दिन के अंदर हर हाल में पुरा करें।

21,542 का जीर्णोंद्धार व 3508 का पुनर्निर्माण

सीएम योगी ने कहा कि पिछले 190 वर्षों के दौरान सिंचाई विभाग के विभिन्न नहरों पर 70 हजार पुल और पुलिया बनी थी। इनमें कई जगहों पर पुल-पुलिया जर्जर हो चुकी थी तो कहीं तोड़ दी गई थी। इनकी कभी मरम्मत नहीं हो सकी थी। इससे आम जन के आवागमन के लिए यह खतरनाक बन गई थी। अब 21,542 पुल-पुलियों का जीर्णोंद्धार और मरम्मत व 3508 के पुनर्निमाण का कार्य महाअभियान के साथ प्रारंभ हो रहा है।

जनप्रतिनिधियों से करावाएं निरिक्षण

जिलों के अधिकारी और जनप्रतिनिधियों से बातचीत के दौरान सीएम ने निर्देश दिए कि कार्य गुणवत्तापूर्ण व समयबद्ध ढंग से हो। इन कार्यों को पूरा करने के साथ ही जनप्रतिनिधियों से इसका निरिक्षण कराकर सुनिश्चित कराएं कि सभी कार्य समयबद्ध ढंग से पूरे हो चुके हैं। इसके जरिए आने वाले समय में लोगों के आवागमन को और बेहतर बना सके।

पहली बार टेल तक पहुंचा पानी

लोगों ने स्वीकारा है कि अब नहरों की सफाई हो रही है। जिन नहरों की कभी सफाई नहीं होती थी सफाई के नाम पर पूरी केवल औपचारिकता पूरी होती थी आज उन्ही नहरों की सफाई का नतीजा है कि प्रदेश के अंदर वर्षों बाद टेल तक सिंचाई का पानी पहुंचा है।

किसानों के लिए नहरों की पटरियों पर बनाएं सड़क

सीएमCM Yogi Adityanath ने कहा कि नहरों का उपयोग किसान सबसे अधिक करता है। किसानों की सुगमता के लिए व गांवों के विकास के लिए नहर की पटरियों का उपयोग होता है। आवागमन और सहज और सरल बनाने के लिए अगले चरण में जिन नहरों के पटरियों पर पक्की की जरूरत हो वहां पक्की व जहां खड़ंजा लग सकता है वहां खड़ंजा लगाने के लिए चिंह्ति करें।

बढ़ेगी 20 लाख हेक्टेयर सिंचन क्षमता

सीएमCM Yogi Adityanath ने कहा कि सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना , मध्य गंगा परियोजना,अर्जुन सहायक परियोजना व तमाम ऐसी परियोजनाएं इस वर्ष के अंत तक पूरी करनी है। प्रदेश के अंदर नहरों के माध्यम से 20 लाख हेक्टेयर सिंचन की क्षमता प्राप्त होगा। साथ ही कहा किसानों को सिंचाई की नई तकनीकें उपलब्ध कराएं।

100 दिन बाद कराएंगे लोकार्पण-महेंद्र सिहं

जलशक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ने सीएम का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि जिन योजनाओं का आज आपने शुभारंभ किया है विश्वास दिलाता हुं 100 दिन बाद आपसे लोकार्पण करने का निवेदन करूंगा।

 

यश भारती की तर्ज पर Yogi सरकार का अटलजी संस्कृत पुरस्कार पर सियासी संग्राम

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *