astro: तुलसी में जल देते समय भूलकर भी ना करें ये गलतियां, नहीं मिलेगा पूजा का फल

सनातन धर्म में तुलसी के पौधे का विशेष महत्व है। अधिकतर लोगों के घर में तुलसी का पौधा होता है और उसकी पूजा की जाती है। घर की महिलाएं हर दिन स्नानादि के बाद तुलसी को...

सनातन धर्म में तुलसी के पौधे का विशेष महत्व है। अधिकतर लोगों के घर में तुलसी का पौधा होता है और उसकी पूजा की जाती है। घर की महिलाएं हर दिन स्नानादि के बाद तुलसी को जल अर्पित करती हैं। धार्मिक शास्त्रों में भी तुलसी के पौधे को अन्य वनस्पतियों से अधिक शुभ और मंगलकारी बताया गया है। मान्यता है भगवान विष्णु को तुलसी अतिप्रिय है। बिना तुलसी दल के विष्णु की पूजा अधूरी मानी जाती है। अगर आपके घर में तुलसी का पौधा लगा हुआ है तो रोज तुलसी में जल अवश्य देना चाहिए। कहते हैं ऐसा करने से जीवन में आने वाली सभी परेशानियां और दुर्भाग्य दूर हो जाता है।

tulsi

एकादशी के दिन तुलसी में न चढ़ाएं जल

धार्मिक मान्यता है कि एकादशी के दिन तुलसी के पौधे में जल नहीं अर्पित करना चाहिए। ज्योतिषाचार्य बताते हैं कि एकादशी वाले दिन तुलसी में जल देने से माता लक्ष्मी नाराज हो जाती हैं जिससे व्यक्ति के जीवन में कई तरह की आर्थिक समस्याएं आ सकती हैं। एक मान्यता ये भी है कि इस दिन तुलसी माता भगवान विष्णु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। ऐसे में एकादशी के दिन तुलसी में जल देने से उनका व्रत टूट जाता है।

बिना सिलाई के वस्त्र

पुराणों में बताए विवरण के मुताबिक तुलसी के पौधे में जल देते वक्त बिना सिलाई का एक वस्त्र पहना शुभ फलदायी होता है। सिले हुए कपड़े पहनकर तुलसी में जल देने से शुभ फल नहीं मिलता है।

सूर्योदय में करें जल अर्पण

तुलसी में जल देने का सबसे उपयुक्त समय सुबह सूर्योदय का समय होता है। मान्यता है कि सूर्योदय के समय तुलसी को जल देने से विशेष लाभ प्राप्त होता है और आर्थिक संकटों से भी निजात मिलती है।

अधिक मात्रा में ना दें जल

तुलसी के पौधे में अधिक मात्रा में जल नहीं अर्पित करना चाहिए। कहते हैं ऐसा करने से तुलसी के पौधे की जड़ें सड़ जाती हैं और पौधा सूखने लगता है। माना जाता है कि घर के भीतर लगा तुलसी का पौधा अगर सूख जाता है इसे शुभ नहीं माना जाता है।

दक्षिण दिशा में न रखें तुलसी का पौधा

वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि तुलसी के पौधे को कभी भी दक्षिण दिशा में नहीं रखना चाहिए। ऐसा करने से घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार होने लगता है। साथ ही इस दिशा में तुलसी रखने से घर में रहा रहे सदस्यों पर भी बुरा प्रभाव भी पड़ता है।