इस राज्य में एक बार फिर से दिवाली पर पटाखा फोड़ने पर लगी रोक, हिंदू संगठनों ने आदेश का विरोध शुरू किया

सरकार ने एक अक्टूबर से 31 जनवरी 2022 तक पटाखों की खरीद बिक्री, पटाखे छोड़ने और किसी तरह की आतिशबाजी पर प्रतिबंध लगा दिया है.

पटाखों के बिना दिवाली सुनी महसूस मानी जाती है, बता दें कि राजस्थान में इस इस बार भी दीपावली पर आतिशबाजी नहीं हो पाएगी. गृह विभाग के प्रमुख सचिव अभय कुमार ने एडवाइजरी जारी की है. एक अक्टूबर से 31 जनवरी 2022 तक आतिशबाजी बेचने और चलाने पर रोक लगाई गई है. वहीँ सरकार ने एक अक्टूबर से 31 जनवरी 2022 तक पटाखों की खरीद बिक्री, पटाखे छोड़ने और किसी तरह की आतिशबाजी पर प्रतिबंध लगा दिया है.

बता दें कि सरकार ने इसके पीछे कोरोना की तीसरी लहर की आशंका बताया है. पटाखो के अस्थायी लाईसेंस भी जारी नही होंगे. पिछले साल भी सरकार ने रोक लगाई थी. राज्य सरकार के आदेश को राजस्थान फायरवर्क्स डीलर एंड मैन्यूफैक्चर्स एसोसिएशन व अन्य ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी. हालांकि, कोर्ट ने पटाखों पर रोक लगाने के राज्य सरकार के फैसले के मामले में दखल देने से इनकार कर दिया था.

कोर्ट ने कहा था कि ‘व्यक्ति की आजीविका के अधिकार से बड़ा जीवन जीने का अधिकार है. कोरोना महामारी के चलते राज्य सरकार का पटाखों पर पाबंदी का निर्णय सही है.’राज्य सरकार के फैसले का विरोध भी शुरू हो गया है. हिंदू संगठनों ने सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का विरोध शुरू कर दिया है. सोशल मीडिया पर भी विरोध के स्वर देखने को मिल रहे हैं. इस साल भी सरकार ने पटाखों की ब्रिकी पर बैन लगा दिया है, ऐसे में व्यापारियों को इस साल भी नुकसान उठाना होगा.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *