बड़ी खबर : काशी, अयोध्या, मथुरा में पंचायत चुनाव हारी बीजेपी, योगी सरकार को झटका

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पंचायत चुनाव में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी को बड़ा झटका लगा है। सूबे की योगी सरकार के एजेंडे में शामिल काशी, अयोध्या और मथुरा में समाजवादी पार्टी ने बड़ी जीत हासिल की है। जबकि अपने चार सालों के कार्यकाल में योगी सरकार का इन तीनों जिलों पर विशेष फोकस रहा है। अगले साल यूपी में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में काशी, अयोध्या और मथुरा में पार्टी की हार बीजेपी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है।

बीजेपी को सबसे बड़ा झटका राम की नगरी अयोध्या में लगा है। अयोध्या जनपद में जिला पंचायत सदस्य की कुल 40 सीटें हैं, जिनमें से 24 सीटों पर एसपी ने जीत दर्ज करने का दावा किया है। यहां बीजेपी को सिर्फ 6 सीटें ही मिली हैं। वहीं 12 सीटों पर निर्दलीयों ने जीत दर्ज की है। हालंकि बीजेपी का दावा है कि निर्दलीय उसके साथ हैं। बताते चलें कि अयोध्या में दर्जन भर बीजेपी नेताओं ने पंचायत चुनाव में बगावत कर दिया था।

इसी तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भी बीजेपी का प्रदर्शन चिंताजनक है। यहां से बीजेपी को एमएलसी चुनाव के बाद जिला पंचायत चुनाव में भी पराजय का मुंह देखना पड़ा है। काशी की जिला पंचायत की 40 सीटों में से बीजेपी के खाते में सिर्फ 8 सीटें आई हैं। वहीं एसपी को 14 सीटों पर और बीएसपी को पांच सीटों पर जीत हासिल हुई है। काशी में अपना दल(एस) को 3 सीट मिली हैं। इसके साथ ही आम आदमी पार्टी और ओमप्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को भी एक-एक सीट मिली है। इसके अलावा तीन निर्दलीय प्रत्याशी भी जीते हैं।

इसी तरह कान्हा की नगरी मथुरा में भी बीजेपी को करारी हार का सामना करना पड़ा है। यहां बीएसपी ने 12 और राष्ट्रीय लोकदल ने 9 सीटों पर परचम लहराया है। बीजेपी की झोली में सिर्फ 8 सीटें आईं। एसपी को यहां पर मात्र एक सीट मिली है। इसके अलावा तीन निर्दलीय प्रत्याशी विजई हुए हैं। बताते चलें कि ब्रज क्षेत्र के किसानों ने भी कृषि आंदोलन के विरोध में प्रदर्शन किया था।

उल्लेखनीय है कि अयोध्या, काशी और मथुरा बीजेपी का फ़्रंट सियासी एजेंडा रहा है। इस समय देश और प्रदेश दोनों ही जगहों पर बीजेपी की ही सरकार है। अयोध्या में भी राममंदिर का निर्माण जारी है, जिसका पूरा श्रेय बीजेपी खुद लेती है। इसी तरह काशी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र भी है। अयोध्या के बाद अब बीजेपी ने मथुरा के कृष्ण जन्मभूमि और वाराणसी के ज्ञानवानी मस्जिद पर भी कदम बढ़ा दिए हैं। इतने दांव-पेंच के बावजूद भी अयोध्या, काशी और मथुरा में पराजय बीजेपी के लिए खतरे की घंटी है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *