बिहार के मुख्यमंत्री ने त्यागी कुर्सी, जानें नीतीश कुमार ने क्यों लिया ये फैसला

राजधानी पटना में चल रहे गवर्नमेंट प्रोग्राम के दौरान एक अनोखा नजारा देखने को मिला।

बिहार॥ राजधानी पटना में चल रहे गवर्नमेंट प्रोग्राम के दौरान एक अनोखा नजारा देखने को मिला। प्रोग्राम में आए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी कुर्सी हटा कर सबसे छोटी कुर्सी मंगाई और उस पर बैठे। इसे देख उसी गवर्नमेंट प्रोग्राम में मौजूद डिप्टी सीएम समेत नेता भी चौंक गए। कुर्सी मामले को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश ने सादगी का परिचय देते हुए मजबूत संदेश भी दिया।

nitish-kumar

पटना में मंगलवार को जल जीवन हरियाली प्रोग्राम चल रहा था। इस दौरान बिहार के सीएम जब अचानक कुर्सी छोड़ कर उठ गए तो लोग हैरान रह गए। बिहार सीएम ने अपनी कुर्सी (VIP कुर्सी) बदल कर सबसे छोटी कुर्सी मंगाई और उस पर बैठकर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। दरअसल, घटना तब हुई जब जल जीवन हरियाली के तहत कोरोना के बाद पहली बार अधिवेशन भवन में बड़े प्रोग्राम में सीएम नीतीश शामिल हुए थे।

नीतीश के साथ मौजूद थे दोनों डिप्टी सीएम

इस कार्यक्रम में भारतीय जनत पार्टी के नेता तथा उप मुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद, रेणु देवी, ग्रामीण विकास मंत्री विजय चौधरी सहित सभी विभागों के प्रधान सचिव भी मौजूद थे। मंच पर लगाई गई कुर्सियों में नीतीश कुमार की कुर्सी सबसे बड़ी और ऊंची थी। नीतीश कुमार जब इस कुर्सी पर बैठे तो खुद को उन्होंने असहज महसूस किया। इसके बाद फौरन वो कुर्सी से उठकर खड़े हो गए। बिहार की सीएम ने वहां मौजूद सबसे छोटी कुर्सी मंगाई और ओर कार्यक्रम इसी पर बैठकर चर्चा में भाग लिया।

आपको अवगत करा दें कि नीतीश कुमार ने स्पष्ट लहजों कहा था कि वो कभी सीएम की कुर्सी पर नहीं बैठना चाहते थे। उन्होंने कहा था कि मुझे कुर्सी से प्यार नहीं, कार्य करना चाहता हूं। ऐसे में पटना के बड़े कार्यक्रम में एक बार फिर नीतीश ने अपने सधे हुए अंदाज से सादगी का परिचय देते हुए बताने की कोशिश की है कि कुर्सी उनके लिए मायने नहीं रखती है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *