क्या चिराग को मिलेगी सहानुभूति, या हो जायेगा डब्बा गोल!

पासवान के बेटे चिराग ने एक बड़ा राजनीतिक निर्णय लेते हुए खुद को और पार्टी को बिहार एनडीएस से अलग कर सभी सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला लिया था। राम विलास चिराग के इस फैसले के साथ पूरी तरह खड़े थे।

पटना। राम विलास पासवान की पार्टी लोक जनशक्ति पार्टी के सामने एक बड़ा खतरा मंडरा रहा है। अपनी दूरदर्शित के चलते लंबे समय तक भारतीय राजनीति के सूरज के तौर पर चमके ​राम विलास पासवान का निधन हो चुका है। ऐसे में पार्टी में बंटवारे का एक बड़ा खतरा लोक जनशिक्त पाटी्र पार्टी पर मंडरा रहा है।

LOK_jDU

पासवान के बेटे चिराग ने एक बड़ा राजनीतिक निर्णय लेते हुए खुद को और पार्टी को बिहार एनडीएस से अलग कर सभी सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला लिया था। राम विलास चिराग के इस फैसले के साथ पूरी तरह खड़े थे। उनके इस फैसले ने मौजूदा सीएम नीतिश कुमार का खेल बिगाड़ दिया। इस लिए ​नीतिश चिराग से खुन्नस खाने लगे।

अब नीतीश कुमार लोक जनशक्ति पार्टी के उन नेताओं को भड़का कर पार्टी में विद्रोह करवा सकते हैं। क्योकि लोजप के भीतर सबकुछ ठीक नहीं है। वरिष्ठ पत्रकार एके मिश्रा ​कहते हैं कि पासवान के जाने के बाद लोक जनशक्ति पार्टी में एक नया उभार आयेगा। उनके मुताबिक मथुरा देवी से पैदा हुए बेटी और दामाद जो एमएलसी भी है अब पालिटिक्ल प्रापर्टी में चिराग को बराबर की टक्कर देंगे।

पत्रकार अनुराग सिंह कहते है कि सिक्के का दूसरा पहलू यह भी है कि पासवान के बाद चिराग को लोगों की सिम्पैथी मिल सकती है। यदि ऐसा हुआ तो फिर नीतिश कुमार पूरी तरह से साफ हो जाएंगे। ​इसलिए नीतश के समाने करो या मरो की स्थिति है। अनुभव बताते है कि इस तरह की स्थिति जब भी नीतिश कुमार के सामने आई है उन्होंने खुद को साबित किया है।

अनुराग कहते हैं कि वर्तमान राजनितिक परिदृश्य को देखते हुए चिराग का डिब्बा गोल होने के के ज्यादा चांस हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *