बिहार के बाहुबली की दिल्ली के अस्पताल में कोरोना से मौत

बिहार के बाहुबली नेता एवं पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई है। शनिवार सुबह लगभग 11.50 बजे दिल्ली के दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में उन्होंने आखिरी सांस ली। तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल ने इसकी जानकारी दी।

नई दिल्ली। बिहार के बाहुबली नेता एवं पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई है। शनिवार सुबह लगभग 11.50 बजे दिल्ली के दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में उन्होंने आखिरी सांस ली। तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल ने इसकी जानकारी दी।
RJD's Bahubali leader Shahabuddin
शहाबुद्दीन बीते एक सप्ताह से कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में भर्ती थे और कल शाम से उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी। शनिवार सुबह डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

उम्र कैद की सजा काट रहे थे

तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल ने बताया कि बिहार के बाहुबली नेता एवं पूर्व सांसद शहाबुद्दीन दिल्ली की तिहाड़ जेल में उम्र कैद की सजा काट रहे थे। एक सप्ताह पहले कोरोना संक्रमण के चलते उन्हें दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल में भर्ती कराया गया था।
डीजी के अनुसार, उन्हें 20 अप्रैल को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वहां लगातार उनकी तबीयत बिगड़ती गई और शनिवार सुबह उन्होंने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। फिलहाल अस्पताल में पुलिस द्वारा जरूरी औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं ताकि उनके शव को अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को सौंपा जा सके।

दो दिन पहले कोर्ट ने बेहतर इलाज कराने का निर्देश दिया था

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार और जेल प्रशासन को दो दिन पहले ही शहाबुद्दीन का इलाज बेहतर तरीके से कराने का निर्देश दिया था। जस्टिस प्रतिभा सिंह ने कहा था कि कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टर उनकी सेहत का ख्याल रखें। इससे पहले शहाबुद्दीन की तरफ से कोर्ट में यह कहा गया था कि उनका इलाज ठीक तरीके से नहीं हो रहा है इसके साथ कोर्ट ने शहाबुद्दीन को दिन भर में दो बार घर बात करने की इजाजत भी दी थी।

उम्र कैद की सजा हुई है

शहाबुद्दीन पर करीब 30 से ज्यादा केस दर्ज थे। 15 फरवरी 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें बिहार की सीवान जेल से तिहाड़ लाने का आदेश दिया था। तिहाड़ से पहले वे बिहार की भागलपुर और सीवान की जेल में भी लंबे समय तक सजा काट चुके थे। 2018 में जमानत मिलने के बाद जेल से बाहर आए, लेकिन जमानत रद्द होने की वजह से उन्हें वापस जेल जाना पड़ा।

पिछले साल पिता का हुआ था निधन

इससे पहले पिछले साल सितंबर में पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन के पिता शेख मोहमद हसीबुल्लाह (90 वर्ष) का निधन हो गया था। उस वक्तर तिहाड़ में बंद पूर्व सांसद को पैरोल पर लाने की मंजूरी नहीं मिल पाई थी। हत्या के मामले में तिहाड़ जेल में आजावीन कारावास की सजा काट रहे पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन के खिलाफ तीन दर्जन से अधिक आपराधिक मामले चल रहे थे।

अलग बैरक में रखा गया था माफिया को

तिहाड़ जेल में शहाबुद्दीन को एकदम अलग बैरक में रखा गया था। उस बैरक में शहाबुद्दीन के अलावा कोई दूसरा कैदी नहीं था। जेल के एक अधिकारी ने नाम नहीं छापने के शर्त पर बताया कि तिहाड़ में तीन ऐसे कैदी (शहाबुद्दीन, छोटा राजन और नीरज बवाना) हैं जिनको अलग-अलग बैरकों में अकेला रखा गया है। इनका किसी से भी मिलना-जुलना नहीं होता है। पिछले 20-25 दिनों से इनके परिजनों को भी इन कैदियों से मिलने नहीं दिया जा रहा है।

लालू यादव के करीबी रहे

90 के दशक में विधायक और सांसद रह चुके शहाबुद्दीन बिहार में बाहुबली के तौर पर जाने जाते थे। RJD प्रमुख लालू यादव के बेहद करीबी माने जाने वाले शहाबुद्दीन कई बार विवादों में रहे। उनके ऊपर सीवान में चंदा बाबू के बेटों की हत्या का आरोप लगा और मामले में कोर्ट ने सजा भी सुनाई। पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में भी शहाबुद्दीन का नाम सामने आया। बाद में कोर्ट के निर्देश पर शाहबुद्दीन को तिहाड़ जेल भेजा गया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *