बीजेपी ने संगीता सेंगर का टिकट काटा, चौतरफा हो रही थी किरकिरी

लखनऊ : भारतीय जनता पार्टी ने अंततः उन्नाव के फतेहपुर चौरासी से घोषित जिला पंचायत सदस्य संगीता सेंगर का टिकट काट दिया है। संगीता सेंगर सजायाफ्ता पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी और निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष हैं। इससे पहले 8 अप्रैल को पार्टी की ओर से जारी की गई सूची में संगीता सेंगर को वार्ड नम्बर 22 फतेहपुर चौरासी तृतीय से उम्मीदवार घोषित किया गया था।

कुलदीप सिंह सेंगर की पत्नी संगीता सेंगर के बीजेपी उम्मीदवार घोषित होते ही पार्टी और पार्टी के काहर भी विरोध के सुर उठने लगे थे। जल्द ही मामला तूल पकड़ने लगा और पीड़िता के परिवार की ओर से भी इसका विरोध होने लगा। चौतरफा हो रही किरकिरी से बीजेपी नेतृत्व ने अंततः अपना निर्णय बदलते हुए संगीता का टिकट काट दिया है। संगीता की जगह नए उम्मीदवार का नाम जल्द घोषित किया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक़ प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने शनिवार को कानपुर में दूसरे चरण के चुनाव वाले क्षेत्रों की समीक्षा की थी। इसी दौरान प्रत्याशियों के नाम पर भी चर्चा होने लगी। इसी दौरान पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने संगीता सेंगर की उम्मीदवारी का विरोध किया था। विपक्षी पार्टियां भी इसे मुद्दा बना रही थी।

उल्लेखनीय है कि संगीता के पति कुलदीप सेंगर माखी कांड में बलात्कार और पीड़िता के पिता की हत्या में आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं। सेंगर को बीजेपी ने अगस्त 2019 में पार्टी से निष्काषित कर दिया था। बताते चलें कि उन्नाव में तीसरे चरण का चुनाव होना है, जिसके लिए 13 अप्रैल से नामांकन पत्र भरे जाएंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *