अभी- अभी- BJP के इस विधायक की हुई कोरोना से मौत, पार्टी में दौड़ी शोक की लहर

हिमाचल के जुब्बल कोटखाई से भाजपा विधायक नरेंद्र बरागटा का निधन

शिमला॥ हिमाचल प्रदेश सरकार में मुख्य सचेतक, पूर्व मंत्री एवं जुब्बल-कोटखाई के BJP विधायक नरेंद्र बरागटा का निधन हो गया है। वह 69 वर्ष के थे। वायरास की चपेट में आने के बाद से नरेंद्र बरागटा का पीजीआई चंडीगढ़ में उपचार चल रहा था। वह कोरोना को मात भी दे चुके थे। मगर पिछले करीब 15 दिनों से उनकी हालत गंभीर थी।

Narendr Bragata

PGI में उपचार के दौरान शनिवार सुबह उनका निधन हो गया। उनके निधन पर सीएम जयराम ठाकुर समेत तमाम नेताओं ने शोक व्‍यक्‍त किया है। सीएम बीते कल उनसे मिलने पीजीआई पहुंचे थे। बरागटा के निधन की खबर से उनके प्रशंसकों और करीबियों के बीच शोक की लहर दौड़ गई है।

उनके निधन की ख़बर उनके बेटे चेतन बरागटा ने फेसबुक पर दी। चेतन बरागटा ने फेसबुक पर एक संदेश पोस्ट किया है, जिसमें लिखा है, “मेरे पिता व हम सभी के प्रिय भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता, पूर्व मंत्री, हिमाचल प्रदेश सरकार में मुख्य सचेतक सम्मानीय नरेन्द्र बरागटा जी स्वास्थ्य से सम्बंधित लम्बे संघर्ष के बाद अपने जीवन की अंतिम लड़ाई हार गए।

मेरे परिवार के सदस्यों समान समस्त समर्थकों, कार्यकर्ताओं को बड़े दुःखी मन के साथ यह खबर दे रहा हूं कि नरेन्द्र बरागटा जी अब हमारे मध्य नहीं रहे। कोविड-19 के चलते तमाम शुभचिंतकों, समर्थकों व कार्यकर्ताओं से निवेदन रहेगा कि धैर्य व सयंम बनाएं रखें। भावभीनी एवं अश्रुपूर्ण यह पल हमारे जीवन के सबसे दुःखदायी क्षण आप सभी के साथ सांझा कर रहा हूं।”

नरेंद्र बरागटा के असामयिक निधन से BJP ने एक बड़ा नेता खो दिया है। अप्पर शिमला में बागवानी के विकास में नरेंद्र बरागटा का अहम योगदान रहा है। उनके निधन से जुब्बल-कोटखाई क्षेत्र में गम का माहौल है। बरागटा का जन्म 15 सितंबर 1952 को शिमला जिला के जुब्बल-कोटखाई में हुआ था। उनके दो बेटे हैं। बरागटा ने हिमाचल विश्वविद्यालय शिमला से राजनीतिक विज्ञान में स्नातकोत्तर की थी। वह BJP युवा मोर्चा में कई अहम पदों पर रहे। वर्ष 1993 से 1998 तक उन्हें जिला BJP का सचिव बनाया गया।

पहली मर्तबा वो वर्ष 1998 में शिमला शहर से विधायक बने। इसके बाद अपने गृह क्षेत्र जुब्बल कोटखाई से वर्ष 2007 में विधायक बने। तब प्रदेश में BJP सरकार थी और उन्हें बागवानी मंत्री बनाया गया। वर्ष 2017 में वह जुब्बल-कोटखाई से फिर विधायक चुने गए। प्रदेश की जयराम ठाकुर सरकार ने सितंबर 2018 में उन्हें विधानसभा में कैबिनेट मंत्री के समकक्ष दर्जा देते हुए मुख्य सचेतक बनाया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *