कपूर सिर्फ पूजा के लिए नहीं बल्कि अन्य कार्यों में भी होता है बहुत उपयोगी

नई दिल्ली: पूजा में ज्यादातर लोग कपूर का इस्तेमाल करते हैं. कपूर न केवल घर और पर्यावरण को शुद्ध करता है बल्कि स्वास्थ्य के लिए भी उपयोगी है। कपूर में एंटी-इंफ्लेमेटरी, एनाल्जेसिक, एंटीसेप्टिक और एंटी-कंजंक्टिवल गुण होते हैं, जो इसे प्राकृतिक चिकित्सा में एक महत्वपूर्ण स्थान बनाते हैं। कपूर एंटीऑक्सीडेंट का बेहतरीन स्रोत है, जो कई बीमारियों को दूर करने में फायदेमंद होता है। यही कारण है कि कपूर को प्राकृतिक उपचार में शामिल किया गया है।

961bcf00caccf1702ee63e714b0999d4_originalआइए जानते हैं कपूर के विभिन्न फायदों के बारे में।

सिर दर्द से बचने के लिए नींबू के रस में कपूर मिलाकर सिर पर लगाएं। सिरदर्द का दर्द काफी हद तक दूर हो जाता है। अगर आप सर्दी-जुकाम और फेफड़ों से संबंधित बीमारियों से परेशान हैं तो रूमाल में कपूर सूँघने से फायदा होगा। अगर दांतों में दर्द हो तो दर्द वाली जगह पर कपूर को दांतों से दबाएं। इससे दांत दर्द में आराम मिलेगा।
खांसी होने पर गर्म पानी में कपूर के तेल की कुछ बूंदें डालकर भाप के रूप में लेने से आराम मिलता है।

प्रभावित क्षेत्रों पर हल्के हाथ से कपूर का तेल लगाने से गर्भवती महिलाओं को होने वाले दर्द और ऐंठन से राहत मिलती है। अगर घर में मच्छर ज्यादा हों तो कमरे में कपूर जलाएं। मच्छर गायब हो जाएंगे। फटी एड़ियों को ठीक करने के लिए एक टब में गर्म पानी लें और उसमें कपूर मिलाकर उसमें अपने पैर डालकर 10-15 दिन तक बैठें। ऐसा करने से एड़ियां ठीक हो जाती हैं।

अगर बालों में डैंड्रफ है तो नारियल के तेल में कपूर मिलाकर बालों में लगाकर मसाज करें। कुछ ही दिनों में डैंड्रफ गायब हो जाएगा। बवासीर के दर्द से राहत पाने के लिए कपूर को नारियल के तेल में मिलाकर बवासीर की जगह पर लगाएं। ऐसा करने से सूजन में कमी आती है और जलन में भी आराम मिलता है। नारियल के तेल में कपूर और गंधक का चूर्ण मिलाकर दाद, खाज, खुजली वाली जगह पर लगाने से लाभ होता है।

अगर जलने या आग लगने से त्वचा पर दाग लग गया हो तो पानी में थोड़ा सा कपूर मिलाकर कुछ दिनों तक नियमित रूप से प्रभावित जगह पर लगाने से निशान से छुटकारा मिल जाता है। रात को सोते समय देसी घी में कपूर मिलाकर पैरों के तलवों पर मालिश करने से अच्छी नींद आती है। अगर मुंह में छाले हो जाएं तो मिश्री को बारीक पीसकर उसमें थोड़ा सा कपूर का पाउडर मिलाकर छालों पर लगाएं।