Chanakya Niti: इन 4 लोगों से कभी नहीं करनी चाहिए लड़ाई, भविष्य में पड़ सकता है पछताना

गुस्सा इंसान की सोचने-समझने की शक्ति को क्षीर्ण कर देता है। ये इंसान को शारीरिक और मानसिक रूप से नहीं नुकसान पहुंचाता बल्कि दुश्मनी की भी वजह बनता है।

गुस्सा इंसान की सोचने-समझने की शक्ति को क्षीर्ण कर देता है। ये इंसान को शारीरिक और मानसिक रूप से नहीं नुकसान पहुंचाता बल्कि दुश्मनी की भी वजह बनता है। जब मनुष्य गुस्से में होता है कई ऐसे लोगों से लड़ाई कर लेता है जससे वह नहीं करना चाहता है। हालांकि बाद में उसे अपने किये पर पछतावा होता है। आचार्य चाणक्य ने भी अपने नीति शास्त्र में बताया है कि हमें किन चार लोगों से कभी झगड़ा नहीं करना चाहिए। वरना बाद में पछताना पड़ता है। आइए जानते हैं वो चार लोग कौन हैं।

Chanakya Niti

मतिमत्सु मूर्ख मित्र गुरुवल्लभेषु विवादो न कर्तव्य:

परिजन

परिजन हमेशा हमारे साथ खड़े रहते हैं। वे हमारे अच्छे और बुरे जीवन में हमारा साथ देते हैं। परिजन ही हमें अच्छे बुरे की समझ बताते हैं। इस श्लोक के माध्यम से चाणक्य ने बताया है कि अपने चाहने वालों से अगर विवाद हो जाता है तो व्यक्ति को जीवनभर पछतावा होता है। वे कहते हैं कि अगर हमारे शुभचिंतक ही हमसे दूर हो जायेंगे तो कौन हमें सही राह दिखाएगा।

मूर्ख व्यक्ति

मूर्ख व्यक्ति से विवाद करने से पहले ‘भैंस के आगे बीन बजाना’ वाक्य पर जरूर अमल कर लेना चाहिए। चाणक्य कहते हैं कि मूर्ख व्यक्ति से वाद-विवाद करना समय को बर्बाद करना है क्योंकि मूर्ख व्यक्ति अपनी बात को मनवाने के लिए हमेशा अपनी बातों को ही आगे रखता है। वह किसी भी कीमत पर दूसरों की बात नहीं मानता है। ऐसे में मुर्ख व्यक्ति से बहस करने से व्यक्ति की छवि पर भी असर पड़ता है।

दोस्त

हर व्यक्ति के लाइफ में एक ऐसा शख्स जरूर होता है जो हर कदम पर उसका साथ देता है। आचार्य चाणक्य कहते हैं कि ऐसे में अगर व्‍यक्ति अपने दोस्‍त से ही झगड़ा कर लेगा तो वह एक भरोसेमंद रिश्ते को खो देता है। इसके लिए उसे जीवन भर पछताना पड़ सकता है।

गुरु

हमें अंधकार से प्रकाश की तरफ ले जाने वाला, अज्ञान से ज्ञान की की तरफ ले जाने वाला गुरु ही होता है। गुरु हमारी आत्मिक उन्नति करने में हमारा सच्चा मार्ग दर्शक होता है। गुरु से लड़ने का मतलब है ज्ञान से बेखबर हो जाना। यही वजह है के गुरु से कभी नहीं लड़ना चाहिए।

Gemology: अगर आप भी धारण करने जा रहे हैं माणिक्य, तो जान लें फायदे और नुकसान, वरना हो जायेंगे कंगाल