चीनी प्रेसिडेंट ने किया इस देश पर कब्जे का ऐलान, कहा- विश्वासघात करते हैं॰॰॰

चीन के मुखिया कहा कि ये ताइवान के लोगों के बुनियादी हितों के अनुरूप है

चीन निरंतर ताइवान को अपने कब्जे में लेने का प्रयास कर रहा है और इसपर बार तो उसके प्रेसिडेंट ने सरेआम द्वीप को कब्जाने की घोषणा कर दिया है। चीनी प्रेसिडेंट जिनपिंग ने शनिवार को कहा कि ताइवान के साथ पुनर्मिलन (Reunion) होना चाहिए और इसे साकार किया जाएगा। चीन के मुखिया कहा कि ये ताइवान के लोगों के बुनियादी हितों के अनुरूप है।

China President Xi Jinping

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (Chinese Communist Party) की केंद्रीय समिति के महासचिव और केंद्रीय सैन्य आयोग के अध्यक्ष शी ने 1911 की क्रांति की 110वीं वर्षगांठ के मौक पर एक बैठक को संबोधित करते हुए ये टिप्पणी की।

चीनी प्रेसिडेंट ने कहा कि जो शख्स अपनी विरासत को भूल जाते हैं, अपनी मातृभूमि के साथ विश्वासघात करते हैं और देश को बांटने का प्रयास करते हैं, लोगों द्वारा उनका तिरस्कार किया जाएगा और इतिहास द्वारा उनकी निन्दा की जाएगी।

उन्होंने कहा कि ताइवान का प्रश्न, जो विशुद्ध रूप से चीन के लिए एक आंतरिक मामला है, चीनी राष्ट्र की कमजोरी और अराजकता से उत्पन्न हुआ है। इसे हल किया जाएगा, क्योंकि राष्ट्रीय कायाकल्प एक वास्तविकता बन जाएगा। ये चीनी इतिहास की सामान्य प्रवृत्ति से निर्धारित होता है, किंतु इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि ये सभी चीनी लोगों की सामान्य इच्छा है। ताइवान के प्रश्न में कोई बाहरी हस्तक्षेप नहीं है।

प्रेसिडेंट ने कहा कि शांतिपूर्ण कार्यों से राष्ट्रीय एकता ताइवान में हमवतन सहित समग्र रूप से चीनी राष्ट्र के हितों की सेवा करती है। उन्‍होंने कहा कि ताइवान जलडमरूमध्य के दोनों किनारों पर हमवतन को इतिहास के दाईं तरफ खड़ा होना चाहिए और चीन के पूर्ण एकीकरण व चीनी राष्ट्र के कायाकल्प को प्राप्त करने के लिए हाथ मिलाना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *