वायु प्रदूषण से निपटने के लिए सीएम केजरीवाल ने लागू किया नया नियम, जानें क्या है “रेडलाइट ऑन, गाड़ी ऑफ”

दिल्ली में शुरू हुआ 'रेडलाइट ऑन, गाड़ी ऑफ' अभियान

दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण से निपटने के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को ‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ अभियान की शुरुआत की है। केजरीवाल ने लोगों से अपील की है कि अब से सभी लोग रेड लाइट पर अपनी गाड़ी ऑफ कर देंगे।

Red light on, cart off

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने पत्रकार वार्ता में कहा कि हम सब लोग आज एक संकल्प लेंगे कि रेड लाइट पर हम अपनी गाड़ी ऑफ करेंगे। दिल्ली में एक करोड़ गाड़िया रजिस्टर्ड हैं, अगर 10 लाख वाहन भी रेड लाइट पर अपनी गाड़ी बंद करना शुरू कर दें तो विशेषज्ञों ने मुझे गणना करके दी है कि साल में पीएम 10 प्रदूषण 1.5 टन कम हो जाएगा और पीएम 2.5 प्रदूषण 0.4 टन कम हो जाएगा।

केजरीवाल ने बताया कि अगर सभी लोग रेड लाइट पर अपनी गाड़ी बंद करना शुरू कर दें, तो सालाना सात हजार रुपये की बचत हो सकती है। उन्होंने कहा कि एक गाड़ी रोजाना औसतन 15-20 मिनट रेड लाइट पर बिताती है, उस दौरान उसमें तकरीबन 200 एमएल ईंधन की खपत होती है। अगर लोग रेड लाइट होने पर गाड़ी बंद करना शुरू कर दें तो प्रति व्यक्ति औसतन 7000 रुपये सालाना की बचत होगी।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण से निपटने के लिए जनरेटरों के इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई है। दिल्ली समेत नोएडा, गाजियाबाद, ग्रेटर नोएडा, फरीदाबाद और गुरुग्राम में जरूरी व आपात सेवाओं को छोड़कर डीजल जनरेटरों के इस्तेमाल पर पूर्ण पाबंदी रहेगी। हाइवे और मेट्रो जैसी बड़ी परियोजनाओं में निर्माण कार्य के लिए पहले भी राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से मंजूरी लेनी होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *