Cyclone Asani: ‘असानी’ ने दिखाया असर, 12 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा आगे, खाली कराए जा रहे तटीय इलाके

बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवाती तूफान 'असानी' ने अब असर दिखाना शुरू कर दिया है। ये चक्रवात 12 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तटीय...

नई दिल्ली। बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवाती तूफान ‘असानी’ ने अब असर दिखाना शुरू कर दिया है। ये चक्रवात 12 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तटीय आंध्र प्रदेश और ओडिशा की तरफ से आगे बढ़ रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक असानी के असर की वजह से 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने के साथ तेज बारिश की भी आशंका है।

Cyclone Asani

आईएमडी ने देश के तीन राज्यों पश्चिम बंगाल, ओडिशा और आंध्र प्रदेश में भारी बारिश की संभावना जताई है। चक्रवात के 10 मई यानी आज आंध्र-ओडिशा तटों से पश्चिम मध्य और उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी में पहुंचने की आशंका है। मौसम वैज्ञानिकों का पूर्वानुमान है कि ये तूफ़ान उत्तर-पूर्व की तरफ मुड़ेगा।

बताया जा रहा है कि चक्रवात पिछले 6 घंटे के दौरान पश्चिम उत्तर-पश्चिम दिशा में 12 किमी प्रति घंटे की गति से आगे बढ़ रहा है और पुरी के लगभग 590 दक्षिण-पश्चिम और गोपालपुर, ओडिशा से लगभग 510 किमी दक्षिण-पश्चिम में है। मौसम विभाग ने मछुआरों को 13 मई तक समुद्रीय तटों पर न जाने की सलाह दी गई है।

यूपी-बिहार में भी दिखेगा असर

मौसम विभाग की मानें तो चक्रवात असानी का असर बिहार और उत्तर प्रदेश के पूर्वी जिलों में भी देखने को मिलेगा। बताया जा रहा है कि पूर्वी यूपी में 11 और 12 मई को गरज चमक के साथ तेज तूफानीहवाएं चल सकती हैं और14 मई तक बूंदाबांदी हो सकती है। मौसम विभाग के अनुसार, गोरखपुर, महाराजगंज, कुशीनगर, बस्ती, आजमगढ़, बलरामपुर, श्रावस्ती, बलिया समेत आसपास के पूर्वी जिलों में 14 मई तक हल्की बारिश होने की संभावना है।

मौसम विभाग ने बताया?

  • चक्रवात के प्रभाव से ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्र में सागर अशांत रहेगा।
  • 10 मई की शाम को कई राज्यों में हल्की बारिश होगी। वहीं ओडिशा के गजपति, गंजाम और पुरी जिले में भारी बारिश होने की संभावना है।
  • 11 मई को गंजाम, खुर्दा, पुरी, जगतसिंहपुर एवं कटक जिले में भी भारी बारिश होने के आसार हैं।
  • 12 मई को पुरी, जगतसिंहपुर, कटक, केंद्रापड़ा, भद्रक, बालेश्वर जिले में भारी बारिश होने का पूर्वानुमान है। इस दौरान 60 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं भी चल सकती हैं।