धनतेरस और नरक चतुर्दशी आज, दीपावली व गोवर्धन पूजा के ये रहेंगे शुभ मुहर्त 

शुक्रवार को भी अधिकांश लोग बाजार में जाकर धनतेरस की खरीदारी कर रहे हैं, जबकि शुक्रवार को ही रूपचौदस का पर्व भी मनाया जा रहा है। रूप चौदस को नरक चतुर्दशी छोटी दीवाली और काली चतुर्दशी भी कहा जाता है।

दीपावली का पांच दिवसीय त्यौहार गुरुवार को धनतेरस से शुरू हो गया है। पांच दिन चलने वाला यह पर्व भाई दूज को समाप्त हो जाएगा। इस बार धनतेरस का पर्व दो दिन मनाया जा रहा है। शुक्रवार को भी अधिकांश लोग बाजार में जाकर धनतेरस की खरीदारी कर रहे हैं, जबकि शुक्रवार को ही रूपचौदस का पर्व भी मनाया जा रहा है। रूप चौदस को नरक चतुर्दशी छोटी दीवाली और काली चतुर्दशी भी कहा जाता है।
auspicious time
यानी, धनतेरस और रूपचौदस साथ-साथ मनायी जा रही है। वहीं, शनिवार, 14 नवम्बर को देशभर में दीपावली मनाई जाएगी और घर घर लक्ष्मीजी की पूजा होगी। इसके अगले दिन 15 नवम्बर को गोवर्धन पूजा व 16 नवम्बर को भाई दूज मनाई जाएगी।
 
हिंदू धर्म में समृद्धि के प्रतीक पांच दिवसीय दिवाली पर्व का विशेष महत्व है। इस साल कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष त्रयोदशी तिथि गुुरुवार रात से शुरू होकर शुक्रवार रात तक रहेगी। इसीलिए धनतेरस का पर्व दो दिन मनाया जा रहा है। इसके साथ ही रूप चौदस भी शुक्रवार को ही मनाई जा रही है। इसे नरक चौदस भी कहा जाता है। नरक चतुर्दशी आम तौर पर दिवाली से एक दिन पहले मनाई जाती है। इस दिन शुभ मुहूर्त शाम 5.23 बजे से शाम 6.43 बजे तक है।

दीपावली के दिन रहेगा प्रदोष काल

लक्ष्मी पूजा मुहूर्त शाम 6 बजे से रात 8 बजे तक
प्रदोष काल – शाम 5:55 बजे से रात 8:25 बजे तक
वृषभ काल – शाम 6 बजे से रात 8:04 बजे तक

गोवर्धन पूजा 

गोवर्धन पूजा प्रात:काल मुहूर्त – प्रात: 6:25 से प्रात: 8:30 तक
गोवर्धन पूजा सायंकल मुहूर्त – दोपहर 2:44 बजे से शाम 4:49 बजे तक।
भाई दूज 16 नवंबर
भाई दूज का शुभ मुहूर्त 16 नवंबर को दोपहर 2:26 बजे तक ही है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *