त्वचा में Kala Til की तरह दाग उभरने को न करें अनदेखा वरना हो सकते हैं बड़ी बीमारी का शिकार

कभी- कभी हम छोटी बीमारी को इग्नोर कर देते हैं लेकिन बाद में वही बीमारी बड़ी बीमारी का रूप ले लेती हैं। जैसे में शरीर में किसी कोशिका के असमान्य

मेलेनोमा (Melanoma) त्वचा कैंसर का एक रूप है। यह बीमारी सूर्य की अल्‍ट्रावायलेट किरणों से होती है। इससे त्वचा प्रभावित होती है। इस स्थति में त्वचा में काले तिल (Kala Til) की तरह दाग उभरने लगते हैं। कभी- कभी हम छोटी बीमारी को इग्नोर कर देते हैं लेकिन बाद में वही बीमारी बड़ी बीमारी का रूप ले लेती हैं। जैसे में शरीर में किसी कोशिका के असमान्य तरीके से बढ़ने की स्थिति को कैंसर कहते हैं।

skin cancer- Kala Til

इस बीमारी के कई प्रकार हैं। इनमें रक्त कैंसर, स्तन कैंसर, त्वचा कैंसर, मस्तिष्क कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, लिवर कैंसर, बोन कैंसर, सर्वाइकल कैंसर, लंग कैंसर आदि प्रमुख हैं। त्वचा कैंसर के चार चरण होते हैं। (Kala Til)

COVID-19 : कोरोना केसों ने बढ़ाई चिंता, रोजाना मिल रहे 40 हजार नए मामले

चौथे चरण में यह बेहद खतरनाक रूप अखित्यार कर लेती है। इस स्थिति को मेलेनोमा कहा जाता है। कैंसर एक्सपर्ट्स की मानें तो मेलेनोमा त्वचा कैंसर का खतरनाक रूप है। यह त्वचा संबंधी बीमारी है।

Arthritis: जोड़ों के दर्द से छुटकारा पाना चाहते हैं तो खाने में जरूर शामिल करें ये चीजें

अतः इससे त्वचा अधिक प्रभावित होती है। इस बीमारी से महिला और पुरुष दोनों प्रभावित होते हैं। यह बीमारी सूर्य की परबैंगनी किरणों के चलते होती है। इसके लिए हमेशा धूप में निकलते समय सन स्क्रीन जरूर लगाएं। साथ ही त्वचा का विशेष ख्याल रखें। अगर आपको मेलेनोमा (Kala Til) के बारे में नहीं पता है, तो आइए इसके बारे में सबकुछ जानते हैं-

मेलेनोमा –

जैसा कि हम सब जानते हैं कि मेलेनोमा त्वचा कैंसर का एक रूप है। यह बीमारी सूर्य की अल्‍ट्रावायलेट किरणों से होती है। इससे त्वचा प्रभावित होती है। इस स्थति में त्वचा में काले तिल की तरह दाग उभरने लगते हैं। इसके आकार में धीरे-धीरे वृद्धि होने लगती है। यह एक आनुवांशिकी बीमारी भी है, जो पीढ़ी दर चलती रहती है। (Kala Til)

प्राथमिक स्तर पर इसका इलाज संभव है। कोताही बरतने पर यह जानलेवा साबित हो सकती है। ऐसी स्थिति में तत्काल डॉक्टर से संपर्क कर उचित उपचार करवाएं।(Kala Til)

मेलेनोमा (Kala Til) के लक्षण-

  • तिल के रंग में बदलाव
  • त्वचा का घाव (लंबे समय तक)
  • त्वचा में खुजली
  • त्वचा में लाल चकत्ते होना
  • खुजली के समय खून आना
  • लाल गांठ बनना (Kala Til)
Research : बुजुर्ग ही नहीं बल्कि युवा भी हो रहे डिमेंशिया जैसी खतरनाक बीमारी का शिकार
  • इसके कई अन्य गंभीर लक्षण भी हैं।
  • मेलेनोमा से बचाव
  • त्वचा का विशेष ख्याल रखें।
  • धूप में निकलते समय काला चश्मा पहनें।
  • घर से बाहर निकलते वक्त चेहरे पर सन स्क्रीन जरूर लगाएं।
  • मेलेनोमा से बचाव के लिए डॉक्टर से सलाह जरूर लें।(Kala Til)

Mangla Gauri Vrat 2021: सावन का पहला मंगला गौरी व्रत कल, जानें पूजा विधि और महत्व

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *