आषाढ़ अमावस्या पर करें ये 7 उपाय, मिलेगी कालसर्प दोष से मुक्ति

नई दिल्ली: हलाहारी अमावस्या यानि आषाढ़ अमावस्या पर पवित्र नदी में स्नान, दान और पितरों की तृप्ति के लिए श्राद्ध का विशेष महत्व है. आषाढ़ अमावस्या 28 जून 2022 को है। कहते हैं इस दिन गीता का पाठ करने से आपके सभी कष्ट दूर होते हैं और आपके घर में धन की कमी दूर होती है। इस दिन किए गए उपाय विशेष शुभ फल देते हैं। ये उपाय बहुत ही आसान हैं,

आषाढ़ अमावस्या पर करें ये उपाय

आषाढ़ अमावस्या को वर्षा ऋतु होती है। इसलिए इस दिन पीपल, बड़, नीम, आंवला, अशोक, तुलसी, बिल्वपत्र और अन्य पेड़-पौधे लगाकर पितरों और देवताओं को प्रसन्न किया जाता है।

इस दिन काली चीटियों को चीनी मिला हुआ आटा खिलाएं। ऐसा करने से आपको पापों से मुक्ति मिल जाएगी। अमावस्या के दिन तालाब या नदी में मछली के लिए आटे की गोलियां बनानी चाहिए। इस उपाय से समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है। अमावस्या के दिन पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाना चाहिए। इससे शनि आदि ग्रह दोष दूर होते हैं।

इस दिन शाम के समय घर के ईशान कोण में गाय के घी का दीपक जलाएं। रुई की जगह लाल रंग के धागे को हल्का बना लें और दीपक में थोड़ा सा केसर डाल दें। ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। पैसे की कोई कमी नहीं है। अमावस्या के दिन काले कुत्ते को तैलीय रोटी खिलाना शुभ होता है। इससे शूत्रों पर विजय प्राप्त होती है।

वैसे तो किसी भी दिन गरीबों को खाना खिलाना पुण्य का काम है, लेकिन अगर आप अमावस्या के दिन ऐसा करते हैं तो आपको विशेष पुण्य की प्राप्ति होगी और आपके जीवन में आने वाली परेशानियां खत्म हो जाएंगी।