वैशाख माह में इन चीजों का दान करने से धन-दौलत बढ़ने की है मान्यता

हिंदू धर्म शास्त्रों एवं पुराणो में वैशाख के  महीने को बहुत ही महत्वपूर्ण माना गया है। हिंदू धर्म शास्त्रों एवं पुराणो में कहा गया है कि यह मास वह महीना भगवान विष्णु को समर्पित होता है। चूंकि यह महीना भगवान विष्णु को समर्पित होता है इसीलिए इस महीने को एक अन्य नाम माधवमास के नाम से भी जाना जाता है। कहा जाता है कि इस मास में भगवान विष्णु की विधि-विधान से पूजा-अर्चना करने के साथ साथ ही इस मास में इन चीजों के दान से धन-दौलत में वृद्धि होती तथा मनोकामना पूर्ण होती है और साथ ही साथ सभी प्रकार के रोगों और कष्टों से मुक्ति भी मिलती है।

वैशाख माह

तीखी नाक वाले स्वभाव के होते हैं तेज तो ऐसी नाक वाले कम उम्र में ही पा लेते हैं सफलता

तो चलिए जानते हैं कि शुभ फल पाने के लिए वैशाख मास में किन चीजों के दान और किन कार्यों को करने से धन दौलत में वृद्धि के साथ साथ मनोकामना पूर्ण होती है…

1•हिंदू धर्म शास्त्रों एवं पुराणो के मुताबिक यह माना जाता है कि यदि वैशाख के महीने में किसी जरूरतमंद व्यक्ति को खरबूजा या कोई अन्य फल, पंखा, अन्न, आदि का दान अवश्य करना चाहिए ऐसा करने से आपके जीवन में खुशहाली आती है और आपके जीवन पर इसका सकरात्मक प्रभाव पड़ता है।और दान करने से धन-दौलत में वृद्धि के साथ साथ मनोकामना भी पूर्ण होती है।

आप यह दान कोई भी मंदिर, सार्वजनिक स्थान या बगीचे में जाकर गरीब और दीन हीन व्यक्ति को दिया जा सकता हैं।

2• सनातन धर्म से यह माना जाता रहा है कि घर में या मंदिर में तुलसी का पौधा लगा कर पूरे वैशाख के महीने में तुलसी की पत्तियों से विष्णु भगवान की पूजा करना बहुत ही शुभ और फलदायी होता है। ज्योतिष शास्त्र कहता है कि ऐसा करने से व्यक्ति को अपने कार्य के क्षेत्र में तरक्की मिलने के साथ-साथ ही उसके घर परिवार में भी सुख-समृद्धि बढ़ती है।

  1. हिंदू धर्म शास्त्रों एवं पुराणो के अनुसार वैशाख महीने में जप, तप, हवन आदि करने से व्यक्ति की सभी मुश्किलों व परेशानियों के समस्या का निदान होता है। माना जाता है कि इस महीने में सुबह को जल्दी उठकर स्नान आदि से निवृत्त होकर करके यदि सच्ची श्रद्धा एवं भक्ति से भगवान विष्णु की पूजा की जाये तो उनका खास आशीर्वाद प्राप्त होता है।  हिंदू धर्म शास्त्रों एवं पुराणो में यह माना गया है कि इस पूरे महीने  में भगवान विष्णु को पूजने से अश्वमेघ यज्ञ के समान पुण्य प्राप्त होता है और व्यक्ति जीवन की हर क्षेत्र में सफलता हासिल करता है।

4• जल पिलाएं अथवा जल का दान करें- कोई भी धर्म हो सभी धर्म शास्त्र मानता है कि किसी भी व्यक्ति को पानी पिलाना बहुत ही पुण्य का काम होता है।

वैशाख का महीना गर्मी के मौसम में आता है और इस दौरान गर्मी से जूझ रहे लोगों को आप पानी पिला कर एक धर्म का काम पूरा कर सकते हैं। इस महीने में जल के दान को विशेष महत्वपूर्ण बताया गया है और यही कारण है कि  इस महीने के दौरान कुछ लोग शरबत बांटते हैं तो वहीं कुछ लोग जगह-जगह प्याऊ बनवाकर लोगों की प्यास बुझाने की कोशिश करते है। यदि आप प्याऊ नहीं बनवा सकते हैं, तो इसकी जगह पर पानी के मिटटी के घडे़ भरकर रख दें। साथ ही पानी का दान करने से पहले दो घडे़ भरकर अलग से रख दिया करे माना जाता है कि  इसमें एक घड़ा भगवान विष्णु को तो वहीं दूसरा घड़ा अपने पूर्वजों को समर्पित किया जाता है।

5• सत्तू का दान करना चाहिए – सत्तू गर्मी में ठंडक देने का काम करता है और यह स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत लाभकारी भी होते है। इसीलिए इस महीने में सत्तू का दान करना बहुत ही अच्छा माना जाता है। यदि बात सत्तू की धार्मिक महत्व की करें तो आपको यह बता दें कि इसका संबंध बृहस्पति ग्रह से माना जाता है। माना जाता है कि यदि सत्तू का दान इस महीने में किया जाए, तो इससे व्यक्ति की कुंडली में बृहस्पति ग्रह की स्थिति मजबूत हो जाती है।इसलिए पूरी श्रद्धा भाव के साथ इस महीने सत्तू का दान अवश्य करना चाहिए।

6• गुड़ का दान करना चाहिए – हिंदू धर्म शास्त्रों में गुड़ का दान करना भी बहुत महत्वपूर्ण माना गया है। माना जाता है कि गुड़ का दान करने से जातक अपनी कुंडली में सूर्य ग्रह की स्थिति को मजबूत कर सकता है।इस पवित्र दान से आर्थिक लाभ तो होता ही है साथ ही साथ कैरियर में भी सफलता प्राप्त होती है। यदि आप चाहे तो गुड़ से बनी हुई चीजों का भी लोगों को दान किया जा सकता हैं। इस महीने में गुड़ का दान आपके जीवन में सुख एवं समृद्धि ला सकता है।

इस महीने की शुरुआत अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 17 अप्रैल से मानी जाती है और ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से ये 30 मई तक चलती है। इस महीने में हिन्दुओ के बहुत सारे पर्व त्यौहार होते है। इसी महीने में स्त्रियों को सौभाग्यशाली बनाने वाला तीज-त्योहार और शुभ तिथियां भी आती हैं। सनातन धर्म से ही इस महीने को धार्मिक और आध्यात्मिक दोनों ही दृष्टि से महत्वपूर्ण माना जाता रहा हैं। यह महीना हिंदू कैलेंडर जिसे हिंदी कैलेंडर भी कहते है के मुताबिक यह हिंदी नए साल का हिंदी कैलेंडर का दूसरा महीना होता है। इस महीने में गंगा स्नान करने को विशेष दर्जा दिया गया है माना जाता है कि इस महीने में गंगा स्नान करने के साथ साथ दान करने से सभी तरह की पापों से मुक्ति वयकति पा  सकता है। हिंदू धर्म शास्त्रों एवं पुराणो के अनुसार यह माना जाता रहा है कि इस महीने में एक हाथ से किया गया हुआ दान हजारों हाथों से दिए गए दानों के बराबर लौटकर व्यक्ति के पास आता है।

मनी प्लांट (money plant) को लेकर भूलकर भी न करें ये गलतियां, हो सकता है नुकसान