इससे लोग जल्दी बूढ़े हो जाते हैं, जिंदा रहना चाहते हैं तो अपनाएं चाणक्य नीति

नई दिल्ली: आपको बता दें कि आचार्य चाणक्य की नीतियां मानव जीवन में बहुत सटीक मानी जाती हैं और एक साधारण बच्चे चंद्रगुप्त मौर्य को अखंड भारत का सम्राट बनाने वाले चाणक्य को नैतिकता का महान विद्वान कहा जाता है. वास्तव में उन्होंने मानव जीवन को लेकर कई नीतियों का उल्लेख किया है। आप सभी को बता दें कि चाणक्य ने अपने नीतिशास्त्र यानी चाणक्य नीति में चौथे अध्याय में 17वें श्लोक में महिलाओं, पुरुषों, घोड़ों के बुढ़ापे का कारण बताया है, अब आज हम आपको चाणक्य के अनुसार बताएंगे कि क्यों लोग जल्दी बूढ़े हो जाते हैं और इससे कैसे बचा जा सकता है। मैं आपको इसके बारे में बताने जा रहा हूं।

श्लोक – अध्वा जरा मनुष्याणां वाजिनां बंधनं जरा .अमैथुनं जरा स्त्रीणां वस्त्राणामातपं जरा ..

दरअसल, इस श्लोक में चाणक्य कहते हैं कि जो व्यक्ति लगातार यात्रा करता है, यानी चलने वाला व्यक्ति जल्दी बूढ़ा हो जाता है, अधिक चलने से शरीर थक जाता है, यदि व्यक्ति युवा रहना चाहता है, तो उसे ज्यादा नहीं चलना चाहिए।

इसके साथ ही चाणक्य ने घोड़े का भी उल्लेख किया है। उनके अनुसार यदि घोड़े को हमेशा बांध कर रखा जाए तो वह जल्दी बूढ़ा हो जाता है, उसकी शक्ति कम होने लगती है, इसलिए घोड़े को खुला रखना चाहिए।

इसी के साथ चाणक्य स्त्री की वृद्धावस्था का उल्लेख करते हुए कहते हैं कि जिस स्त्री को अपने पति से प्रेम नहीं होता वह बहुत जल्दी बूढ़ी हो जाती है, इसलिए स्त्री को हमेशा संबंध बनाना चाहिए.

वहीं चाणक्य अंत में कहते हैं कि अगर कोई कपड़ा ज्यादा देर तक धूप में रखा जाए तो वह पुराना हो जाता है और उसका रंग उतर जाता है, वह रंगहीन कपड़ा पुराना हो जाता है.