मेहनत चाहे जितनी कर लो नहीं है ये चीज वश में तो हो जाएंगे बर्बाद, जानें चाणक्य की 6 बातें

चाणक्य नीति में इस श्लोक के माध्यम से चाणक्य कहते हैं कि मनुष्य को उसके पिछले जन्म के आधार पर 6 चीजें मिलती हैं. आइए जानते हैं उन 6 गुणों के बारे में...

भोज्यं भोजनशक्तिश्च रतिशक्तिर्वराङ्गना ।
विभवो दानशक्तिश्च नाल्पस्य तपसः फलम् ॥

चाणक्य नीति में इस श्लोक के माध्यम से चाणक्य कहते हैं कि मनुष्य को उसके पिछले जन्म के आधार पर 6 चीजें मिलती हैं. आइए जानते हैं उन 6 गुणों के बारे में…

Chanakya Niti 1

इनमें सबसे पहले वो भोजन का जिक्र करते हैं. वो कहते हैं कि भाग्य के धनी लोगों को ही बेहतर भोजन मिल पाता है. इसके लिए वो पिछले जन्म के कर्मों को कारण बताते हैं.

बेहतर भोजन के बाद अच्छी पाचन शक्ति यानी खाने को पचा जाने की शक्ति को ज्यादा महत्वपूर्ण मानते हैं. पिछले जन्म में अच्छे कर्म करने वाल लोगों के पास ही खाना पचा जाने की शक्ति होती है. नहीं तो अच्छे-अच्छे लोगों को भोजन से दिक्कत हो जाती है.

तीसरे स्थान पर चाणक्य जीवन संगिनी को रखते हैं. वो कहते हैं सुंदर और गुणवान लाइफ पार्टनर का मिलना भी पिछले जन्म के कर्मों पर निर्भर करता है. गुणवान पार्टनर मिल जाए तो जीवन की आधी मुसीबत हल हो जाती है.

व्यक्ति को खुद पर काम को हावी नहीं होने देना चाहिए. वो कहते हैं कि काम के वश में रहने वाला व्यक्ति जल्द ही बर्बाद हो जाता है.

5वीं चीज धन कमाने से ज्यादा मुश्किल धन को सहेजकर रखना और उचित जगह पर उसका इस्तेमाल करने की कला में माहिर होना होता है. चाणक्य के मुताबिक मनुष्य के अंदर यह गुण भी उसके कर्मों के पुण्यों से ही प्राप्त होता है.

दानी स्वभाव को भी चाणक्य बेहद अहम मानते हैं. वो कहते हैं कि दुनिया में पैसे वालों की कमी नहीं है लेकिन दान देने की आदत या इच्छा शक्ति गिनेचुने लोगों में होती है. ये सभी गुण पिछले जन्म के कर्मों के आधार पर व्यक्ति में समाहित होते हैं.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *