गैस कनेक्शन से जुड़े ये खास नियम सभी को पता होने चाहिए, ये हैं आपके फायदे

गैस सिलेंडर का इस्तेमाल लगभग हर घर में होता है। सरकार की उज्ज्वला योजना के तहत अधिकांश घरों में गैस कनेक्शन उपलब्ध करा दिया गया है. लेकिन, ज्यादातर एलपीजी उपभोक्ताओं को गैस कनेक्शन से जुड़े इस नियम की जानकारी नहीं होगी। अगर कोई गैस एजेंसी कभी भी आपको सिलेंडर की होम डिलीवरी देने से मना करती है और आपको सिलेंडर लेने के लिए एजेंसी के गोदाम में जाना पड़ता है। कई बार ऐसा होता है कि हम जिन चीजों का इस्तेमाल करते हैं, उनके फायदों के बारे में हमें बहुत कम जानकारी होती है। आज हम भारत के गैस उपभोक्ताओं को गैस कनेक्शन से जुड़ी कई ऐसी जानकारियां बता रहे हैं, जिनके बारे में उपभोक्ताओं को जानकारी तक नहीं है।

अगर आप गोदाम से अपना खुद का सिलेंडर लाते हैं
अगर आपके पास किसी गैस एजेंसी का कनेक्शन है और आप उसके गोदाम से खुद सिलेंडर लाते हैं तो एजेंसी से 19 रुपये 50 पैसे निकाल सकते हैं. कोई भी एजेंसी यह राशि देने से इंकार नहीं करेगी। कृपया ध्यान दें कि यह राशि आपसे डिलीवरी शुल्क के रूप में ली जाती है। यह राशि सभी कंपनियों के सिलेंडर के लिए तय है। हालांकि यह राशि कुछ समय पहले बढ़ाई गई है। पहले डिलीवरी चार्ज 15 रुपये था लेकिन अब इसे बढ़ाकर 19 50 पैसे कर दिया गया है।

अगर कोई एजेंसी संचालक आपको यह राशि देने से मना करता है तो आप टोल फ्री नंबर 18002333555 पर शिकायत कर सकते हैं। फिलहाल 12 सब्सिडी वाले सिलेंडर ग्राहकों को दिए जाते हैं। यह कोटा पूरा होने के बाद बाजार भाव से सिलेंडर खरीदना पड़ रहा है।

रेगुलेटर मुफ्त में बदला जाता है
अगर आपके सिलेंडर का रेगुलेटर खराब हो गया है तो आप एजेंसी से इसे मुफ्त में बदलवा सकते हैं। इसके लिए आपके पास एजेंसी का सब्सक्रिप्शन वाउचर होना चाहिए। आपको लीक रेगुलेटर को अपने साथ एजेंसी के पास ले जाना होगा। सब्सक्रिप्शन वाउचर और रेगुलेटर का नंबर एक जैसा होगा। अगर दोनों नंबर मेल खाते हैं तो रेगुलेटर बदल दिया जाएगा। इसके लिए आपको कोई शुल्क नहीं देना होगा।

यदि किसी कारण से आपका नियामक क्षतिग्रस्त हो जाता है, तो एजेंसी उसे बदल देगी। लेकिन, इसके लिए एजेंसी कंपनी आपसे टैरिफ के हिसाब से राशि जमा करेगी। यह रकम 150 रुपये तक जाती है।

प्रत्येक एलपीजी उपभोक्ता के लिए 50 लाख का बीमा
आपको बता दें कि संबंधित कंपनी की ओर से हर एलपीजी उपभोक्ता का 50 लाख रुपये तक का बीमा होता है। इस बीमा की दो शर्तें हैं। आपको यह भी बता दें कि इसके लिए किसी भी उपभोक्ता को कोई अतिरिक्त मासिक प्रीमियम नहीं देना होता है। पहली शर्त में 40 लाख और दूसरी शर्त पर 50 लाख गैस सिलेंडर से दुर्घटना होने पर संबंधित एजेंसी को देना होगा।

अगर आपके घर या प्रतिष्ठान में रसोई गैस सिलेंडर के कारण कोई दुर्घटना होती है तो आप 40 लाख तक के बीमा का दावा कर सकते हैं। वहीं अगर सिलेंडर फटने से किसी व्यक्ति की मौत हो जाती है तो 50 लाख रुपये तक का दावा किया जा सकता है. ऐसे में हर पीड़ित को 10 लाख रुपये तक मुआवजा राशि देने का नियम है।