यहां कृषि कानून के विरोध में, अब कॉरपोरेट घरानों का घेराव शुरू, जाने पूरा मामला

पंजाब में केंद्रीय कृषि कानूनों के विरुद्ध चल रहा किसान आंदोलन अब  कारपोरेट घरानों को भी निशाने पर लेने लगा है।

चंडीगढ़ ,01 अक्टूबर यूपी किरण। पंजाब में केंद्रीय कृषि कानूनों के विरुद्ध चल रहा किसान आंदोलन अब  कारपोरेट घरानों को भी निशाने पर लेने लगा है। किसानों द्वारा आज से पंजाब में अडानी, अम्बानी व अन्य कंपनियों के व्यापारिक संस्थानों के घेराव शुरू किया जा रहा है। शुरुआत पंजाब के बरनाला से की जा रही है , जहां पर एक कारपोरेट कम्पनी के पेट्रोल पम्प का घेराव होगा और एक कारपोरेट कम्पनी के मोबाइल सिम को जलाने शुरू कर दिए गए हैं।
इसके साथ ही किसानों का आंदोनल आज  पूरी तरह और पूरे राज्य में रेल रोकने पर केंद्रित हो गया है। रेल रोकने का आज आठवां दिन है और रेलवे ने आंदोलन के चलते तमाम रेलगाड़ियों को रद्द किया हुआ है।  अमृतसर के जंडियाला में किसानों में एक कम्पनी के सिम जला कर अपना रोष प्रदर्शन किया। फरीदकोट में किसानों ने एक कारपोरेट कम्पनी के पेट्रोल पम्प का घेराव किया है जबकि मोगा में अडानी कम्पनी के पूर्व में कांग्रेस सरकार में लगाए गए गेंहू स्टोरेज का विरोध किया गया।
किसान नेता दर्शन पाल के अनुसार कारपोरेट घरानों के व्यापारिक संस्थानों की निशानदेही की जा रही है , जिसमें पेट्रोल पम्प, रिटेल स्टोर, टोल प्लाजा इत्यादि  शामिल हैं, उनका घेराव किया जायेगा। किसानों का आरोप है कि कारपोरेट घरानों के फायदे के लिए कृषि एक्ट बने और कृषि पर कब्ज़ा करने के प्रयास हो रहे हैं। आंदोलन को और तेज करने के लिए किसान संगठनों ने 7 अक्टूबर को एक बैठक बुलाई है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *