सौ भारतीय छात्रों ने यूके की यूनिवर्सिटी के नए ऑनलाइन डायबिटीज कोर्स में किया एनरोल

यूके की यूनिवर्सिटी द्वारा  शुरू किए गए नए डयबिटीज कोर्स में सौ भारतीय छात्रों ने एनरोल किया है। यह कोर्स डायबिटीज के ग्रसित मरीजों को सहयोग करने में मददगार है।

लंदन, 03 अक्टूबर यूपी किरण। यूके की यूनिवर्सिटी द्वारा शुरू किए गए नए डयबिटीज कोर्स में सौ भारतीय छात्रों ने एनरोल किया है। यह कोर्स डायबिटीज के ग्रसित मरीजों को सहयोग करने में मददगार है।

बर्मिंघम सिटी यूनिवर्सिटी ने यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल्स बर्मिंघम डायबिटीज टीम के सहयोग से इस हफ्ते मास्टर डिग्री के इस नए कोर्स की शुरुआत की है।

डायबिटीस की बीमारी से ग्रसित लोगों को और अधिक केयर के साथ इलाज और मदद करने और नई तकनीक को विकसित करने के उद्देश्य से इस कोर्स को शुरू किया गया है। जिससे हेल्थकेयर्स प्रोफेशनल्स को मदद मिल सके।

बर्मिंघम में कंसुल जनरल ऑफ इंडिया डॉ शिशांक विक्रम ने बताया कि जब वह मेडिसिन के अंडरग्रजुएट स्टूडेंट थे तब वह डायबिटीज के बारे में लाइफस्टाइल डिसीज की सब कैटेगरी में पढ़ते थे। आज देखा गया है कि हर स्तर की आयु के लोगों में यब बीमारी तेजी से फैल रही है।

इस नए एमइससी के कोर्स की शुरुआत से अच्छे स्तर का प्रशिक्षण मिलने के साथ-साथ अच्छे स्तर की प्रैक्टिस भी होगी। जो छात्र इस कोर्स को करेंगे वह सभी पहले ही डॉक्टर्स हैं। साथ ही वह उन्हें शुभकामनाएं देते हैं।

उल्लेखनीय है कि यूनिवर्सिटी के आकड़ों के अनुसार भारत में लगभग 77 मिलियन लोग डायबिटीज से ग्रसित हैं। यह कोर्स डायबिटीज में रिसर्च को और विकसित करने के उद्देश्य से किया गया है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *