यदि नहीं सुधरे हालात तो विश्व के 5 अरब लोगों पर आएगी बड़ी आफत, UN ने किया सतर्क

UN के आंकड़े बताते हैं कि वर्ष 2018 में लगभग साढ़े तीन अरब लोग ऐसे थे जिनके पास साल में सिर्फ 11 माह के लिए जल की सुलभता थी

UN की एक रिपोर्ट में विश्वभर में मंडराते जल की किल्लत के प्रति सतर्क किया है। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि पानी की कम उपलब्‍धता के कारण पहले से ही विश्व के करोड़ों लोग परेशानियों का सामना कर रहे हैं। ये रिपोर्ट The State of Climate Services 2021: Water के नाम से जारी की गई है।

PEOPLE

तो वहीं इस रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि मौजूदा वक्त में वाटर मैनेजमेंट, इसकी निगरानी, पूर्वानुमान और समय रहते धमकी दी जा सकने वाली तकनीकों के मध्य सही तालमेल नहीं है। वहीं वैश्विक स्तर पर किए जा रहे जलवायु वित्त पोषण के प्रयास भी अपर्याप्त हैं।

UN के आंकड़े बताते हैं कि वर्ष 2018 में लगभग साढ़े तीन अरब लोग ऐसे थे जिनके पास साल में सिर्फ 11 माह के लिए जल की सुलभता थी। इसका मतलब है कि उन्‍हें 30 दिनों तक जल संकट से जूझना पड़ता था। वहीं, वर्ष 2050 तक ये आंकड़ा पांच अरब हो सकता है।

यूएन की मौसम विज्ञान एजेंसी के महासचिव पेटेरी टालस ने बताया कि पृथ्वी का टेम्परेचर जिस तेजी के साथ बढ़ रहा है उसकी बदौलत जल की सुलभता में भी बदलाव आ रहा है। ग्लोबल वार्मिंग का सीधा प्रभाव वर्षा के पूर्वानुमान और कृषि ऋतुओं पर भी पड़ रहा है। उन्‍होंने इस बात की भी आशंका जताई है कि इसका असर खाद्य सुरक्षा, मानव स्वास्थ्य और कल्याण पर भी हो सकता है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *