अगर आप भी हिचकी से हो जाते हैं परेशान तो अपनाएं ये ट्रिक्स, चुटकियों में मिलेगी राहत

कई बार जब किसी को हिचकी आने लगती है तो वह लाख कोशिशों के बावजूद बंद नहीं होती। ऐसे में हम यही सोचते रहते हैं कि आखिर ये बंद क्यों...

कई बार जब किसी को हिचकी आने लगती है तो वह लाख कोशिशों के बावजूद बंद नहीं होती। ऐसे में हम यही सोचते रहते हैं कि आखिर ये बंद क्यों नहीं हो रही है। वहीं बड़े बुजुर्गों का कहना होता है कि जब कोई याद करता है तभी हिचकी आती है। हालांकि इसके पीछे कुछ साइंटिफिक भी है। तो आइये जानते हैं कि क्यों आती है हिचकी और इसे कैसे रोका जा सकता है।

hiccups

क्या है हिचकी?

हिचकी का संबंध हमारे गले की नली से होता है जो आपकी मांसपेशियों की एक अनैच्छिक क्रिया है। ऐसा उस वक्त होता है जब डायफ्राम की मांसपेशियां अचानक सिकुड़ जाती हैं और आप इसे कंट्रोल नहीं कर कर पाते हैं। इस दौरान हर संकुचन के बाद आपके मुखर रस्सियों को अचानक बंद कर दिया जाता है, जिससे एक प्रमुख ‘हिच’ साउंड निकलती है।

क्यों आती हैं हिचकी?

बहुत सारे मामलों में हिचकी तब आती है जब आपने बहुत अधिक या फिर बहुत तेजी में खाना खाया हो। इसके साथ ही उस वक्त जबब कुछ कार्बोनेटेड युक्त पेय पदार्थ लिया हो या फिर अधिक मसालेदार खाना खाया हो। वहीं कई लोगों को हिचकी तब भी आती है जब वे एक्साइटिड होते हैं या फिर तनाव में होते हैं। अगर आपको भी इस तरह की परेशानी लंबे समय से हो रही हो तो आप डॉक्टर से संपर्क करें लेकिन अचानक से ये आपके साथ हो रहे हैं तो आप इन टिप्स को फॉलो कर सकते हैं।

पेपर बैग में भरें सांस

हिचकी आने पर इस ट्रिक का इस्तेमाल करके आप उसे रोक सकते हैं। एक छोटे पेपर बैग में मुंह डाल के आप धीरे-धीरे और गहरी सांस लें। हालांकि ऐसा करने के लिए आप कभी भी प्लास्टिक बैग का न लें। धीरे-धीरे सांस अंदर और बाहर करें, बैग को फुलाएं। ये ट्रिक ब्लड में कार्बन डाइऑक्साइड के स्तर के लवल को बढ़ा देगी और ज्यादा ऑक्सीजन लाने के लिए डायाफ्राम कॉन्ट्रेक्ट को और अधिक गहरा कर देगी है। थोड़ी देर में हिचकी बंद हो अजयेगी।

कुछ देर के लिए सांस को करें होल्ड

हिचकी रोकने के सबसे आसान तरीका है थोड़ी देर के लिए सांस को होल्ड करना। कुछ सेकंड के लिए सांस रोककर रखने से भी हिचकी रुक जाती है।

इस तरीके को अपनाने के लिए आपको किसी आरामदायक जगह पर बैठना होगा। फिर, अपने घुटनों को अपनी छाती पर लाएं और उन्हें दो मिनट के लिए वैसे ही छोड़ दें। अपने घुटनों को खींचने से छाती संकुचित होती है जिससे डायाफ्राम की ऐंठन बंद हो जाती है और हिचकी की समस्या दूर हो जाती है।

जीभ निकालें बाहर

यह तरीका आपको थोडा अजीब लग सकता है लेकिन यह ट्रिक भी बेहद काम की साबित हो सकती है। आपकी जीभ एक दबाव बिंदु है और अपनी जीभ को खींचने से आपके गले की मांसपेशियां उत्तेजित हो जाती है और हिचकी कंट्रोल हो जाती है।

 ठंडा पानी पीएं

हिचकी को दूर करने के लिए आपको एक गिलास बर्फीले ठंडे पानी का लगातार 9 से 10 घूंट लेना चाहिए। ऐसा करते समय जब आप पानी को निगल रहे होते हैं, तो अन्नप्रणाली के लयबद्ध संकुचन डायाफ्राम की ऐंठन को खत्म कर सकते हैं।