अगर आपका भी बुरा वक्त चल रहा है तो करें शास्त्रों में बताए गए ये उपाय, परेशानी होगी खत्म

वैसे तो जीवन में अच्छा और बुरा वक्त तो आना स्वाभाविक है लेकिन अगर आपके बुरा वक्त ही नहीं खत्म हो रहा है तो आपको इन उपायों को करने की जरूरत है। ये उपाय इस प्रकार हैं...

आपकी लाइफ में भी अगर बुरा वक्त चल रहा है तो आपको शास्त्रों में बताए गए उपाय और नियमों का पालन जरूर करना चाहिए। इन उपायों को करने से आपकी सारी समस्याएं खत्म हो जाएंगे। वैसे तो जीवन में अच्छा और बुरा वक्त तो आना स्वाभाविक है लेकिन अगर आपके बुरा वक्त ही नहीं खत्म हो रहा है तो आपको इन उपायों को करने की जरूरत है। ये उपाय इस प्रकार हैं…

Bad times

करें ये उपाय

  1. नित्य सूर्योदय के समय सूर्यदेव को जल का अर्घ्य दें और आदित्य ह्रदय स्तोत्र का पाठ करें। सूर्य को प्रत्यक्ष नारायण बोला गया है और सूर्य उपासना से बुरे से बुरे समय/स्थिति का नाश किया जा सकता है।
  2. शुक्रवार के दिन महालक्ष्मी का व्रत करने से और श्री कनक धारा स्तोत्र का पाठ करने से विपरीत समय अनुकूल होने लगता है और परेशानियां समाप्त होती हैं। बेरोज़गारी और आर्थिक परेशानियां भी समाप्त हो जाती हैं।
  3. पीपल के पेड़ की सेवा करने से और नित्य अश्वत्थ स्तोत्र का पाठ करने से भी समय अनुकूल होने लगता है और स्वास्थ्य भी ठीक रहता है। कोई गंभीर रोग लग गया हो तो वह भी ठीक होने लगता है।
  4. गुरुवार के दिन श्री विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें। इसका पाठ करने से दरिद्रता दूर होती है और धन के स्तोत्र प्रशस्त होते हैं।
  5. मंगलवार के दिन बजरंग बाण का पाठ करने से बड़े से बड़ी तंत्र बाधा एवं शारीरिक पीड़ा भी समाप्त हो जाती है।
  6. महालक्ष्मी को कमल गट्टे की माला और कमल का फूल अर्पित करने से विपरीत समय अनुकूल हो जाता है।
  7. प्रदोष व्रत करने से और श्री शिव तांडव स्तोत्र का पाठ करने से विपरीत समय समाप्त होता है और उन्नति के मार्ग खुलते हैं।
  8. शनि से पीड़ित मनुष्य को दशरथ कृत शनि स्तोत्र का पाठ करना चाहिए और शनि के दस नाम का नित्य पाठ करना चाहिए।
  9. माता बगलामुखी के दर्शन एवं मूल मंत्र के जाप से कोर्ट कचहरी एवं सरकारी झंझटों से मुक्ति मिलती है।
  10. तुलसी के पौधे की सेवा और पूजन से भी विपरीत समय अनुकूल होने लगता है। यह उपाय करने से आपके घर में धन की देवी लक्ष्मी का आगमन होगा।
  11. ऋण मुक्ति के लिए ऋण मोचक मंगल स्तोत्र का पाठ मंगलवार के दिन करना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *