इस इलाके में इंडियन आर्मी ने पकड़ की मजबूत, जानकर चीन के उड़े होश

आज फिर बैठेंगे भारत-चीन के कोर कमांडर

आखिरकार हिंदुस्तान और चीन के कोर कमांडरों के बीच सोमवार को छठे दौर की बैठक फाइनल हो गई है​। ​काफी दबाव बढ़ाने पर चीन ​ने 16 या 17 सितम्बर को वार्ता का प्रस्ताव रखा था जिसे हिंदुस्तान ने यह कहते हुए नामंजूर कर दिया कि इतने छोटे नोटिस पर वार्ता नहीं हो सकती​​​।​ बता दें कि लद्दाख में भारतीय सेना ने अपनी पकड़ मजबूत कर ली है।

indian army, #socialmedia

इसके बाद हिंदुस्तान ने 20-21 को वार्ता करने का प्रस्ताव रखा​ जिस पर चीन सोमवार यानी 21 सितम्बर को कोर कमांडर स्तर की वार्ता के लिए तैयार हुआ है​।​हिंदुस्तान की तरफ से प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई लेह के 14 कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह कर सकते हैं वहीं चीन की तरफ से वार्ता में मेजर जनरल लिउ लिन शामिल होंगे। यह वार्ता चीन के क्षेत्र मोल्डो में होगी।

​इससे पहले दोनों देशों के कोर कमांडरों के बीच पांचवें दौर की वार्ता 02 अगस्त को सुबह 11 बजे से चीन की ओर स्थित मॉल्डो में हुई थी। लगभग 10 घंटे से ज्यादा चली इस बैठक में चीन और हिंदुस्तान के कॉर्प्स कमांडरों ने पूर्वी लद्दाख के डेप्सांग मैदानी क्षेत्र, पैंगॉन्ग झील और गोगरा-हॉट स्प्रिंग्स एरिया के विवादित मुद्दों पर चर्चा की थी। इसके बाद से लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर हालात बदलकर जंग की तरह लग रहे हैं।

6वीं कोर कमांडर वार्ता होगी

सीमा रेखा पर छह विवादित जगहों पर दोनों देशों की सेनाएं महज कुछ दूरी पर आमने-सामने हैं। सबसे गरम माहौल पैन्गोंग झील के दक्षिणी ओर है, जहां मुखपारी चोटी पर सिर्फ 170 मीटर और रेजांग लॉ में 500 मीटर की दूरी पर चीनी और हिंदुस्तानीय सैनिक हैं।​ हिंदुस्तानीय सीमा क्षेत्र चुशुल में हिंदुस्तानीय सेना के ‘ऑपरेशन स्नो लेपर्ड’ के तहत आधा दर्जन महत्वपूर्ण पहाड़ियों को अपने नियंत्रण में लेने के बाद यह 6वीं कोर कमांडर वार्ता होगी।

दोनों सैन्य अधिकारियों के सामने एलएसी के दोनों तरफ तैनात हजारों सैनिकों और हथियारों को पीछे करना असल चुनौती है क्योंकि इस बीच हालात बहुत ज्यादा बदले हैं। हिंदुस्तान और चीन के विदेश मंत्रियों के बीच मास्को में बनी पांच सूत्रीय सहमति को जमीनी स्तर पर उतारने के मुद्दे पर कोर कमांडरों के बीच वार्ता का मुख्य मुद्दा हो सकता है।​ बैठक में हिंदुस्तान पिछली बैठकों में हुई सहमतियों को आगे बढ़ाने और सेनाओं को पीछे करने पर ध्यान केंद्रित करेगा।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *