चीन को एक और झटका देने की तैयारी में भारत, इन देशों के साथ मिलकर विकसित करेगा नई तकनीक

LAC पर चल रहे सीमा विवाद के बीच भारत अब चीन को एक और झटका देने जा रहा है।  भारत ने अब अमेरिका और इजराइल के साथ मिलकर 5G तकनीक के विकास का फैसला लिया है।

 वॉशिंगटन।  LAC पर चल रहे सीमा विवाद के बीच भारत अब चीन को एक और झटका देने जा रहा है।  भारत ने अब अमेरिका और इजराइल के साथ मिलकर 5G तकनीक के विकास का फैसला लिया है। इसके लिए सिलिकॉन वैली, बेंगलुरु और तेल अवीव के आईटी हब आपसी सहयोग बढ़ाएंगे।  इस तकनीक का विकास होने पर उसे बाद में तीसरी दुनिया के देशों के साथ भी साझा किया जाएगा।

इस अहम घटनाक्रम पर जानकारी देते हुए यूएस  एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डिवेलपमेंट  की उप प्रशासक बॉनी ग्लिक ने कहा कि अभी तो केवल शुरुआत हुई है। आने वाले वक्त में यह सहयोग और गहरा होता जाएगा। तथा तीनों देश मिलकर भविष्य की तकनीकों पर रिसर्च व डिवेलपमेंट करेंगे।

गौरतलब है कि एक वर्चुअल समिट में बोलते हुए बॉनी ग्लिक ने कहा कि जुलाई में ही 5G तकनीक पर एक राउंड टेबल कॉन्फ्रेंस हुई थी। इस कॉन्फ्रेंस में भारत और इजराइल के विशेषज्ञों ने भी भाग लिया था । जहां इस बात पर डिस्कस किया गया कि बेंगलुरु, सिलिकॉन वैली और तेल अवीव शहरों ने तकनीक के विकास में काफी ख्याति प्राप्त की है। ऐसे में यदि इन जगहों के विशेषज्ञ 5G और दूसरी तकनीकों के विकास के लिए आपस में जुड़ते हैं तो पूरी दुनिया को इसका बहुत फायदा होगा।

आपको बता दें कि तीनों देशों को साथ लाने की इस पहल को शुरू करने वाले एम आर रंगास्वामी ने कहा कि तीनों देशों के मिलकर काम करने से हम एक सुरक्षित दुनिया बना पाएंगे। इससे तीसरी दुनिया के देशों को भी आगे बढ़ने का मौका मिलेगा।  बता दें कि रंगास्वामी ने ही पीएम मोदी के 2017 के इजराइल दौरे के दौरान  उनके सामने अमेरिका और इजराइल के साथ मिलकर तकनीकी विकास के क्षेत्र में आगे बढ़ने का प्रस्ताव दिया था. जिसके बाद इस संबंध में चीजें धीरे- धीरे आगे बढ़ती जा रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *