पूर्वी लद्दाख में चीन के द्वारा उकसाने वाली कार्रवाई को भारतीय सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब

नई दिल्ली, 01 सितंबर, यूपीकेएनएन। लद्दाख बॉर्डर पर चीन अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहा है। विदेश मंत्रालय ने कहा है कि चीन की सेना ने सोमवार (31 अगस्त) को पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर उकसाने वाली कार्रवाई की तथा यथा स्थिति में बदलाव करने की एकतरफा कोशिश की जिसे भारतीय सेना ने नाकाम कर दिया।

laddakh border

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने पूर्वी लद्दाख में सीमा के हालात के बारे में मंगलवार को कहा कि चीनी सेना ने सोमवार को उकसाने वाली कार्रवाई उस समय की जब स्थिति को सामान्य बनाने के लिए दोनों देशों के सैन्य अधिकारी बातचीत कर रहे थे। भारतीय सेना ने समय पर रक्षात्मक कार्रवाई की तथा यथास्थिति में बदलाव करने की चीनी सेना की कार्रवाई को विफल कर दिया।

प्रवक्ता ने कहा कि चीन की सेना की हाल की उकसाने वाली और आक्रमक कार्रवाई के बारे में भारत ने चीन को कूटनीतिक और सैन्य माध्यमों से अवगत कराया है। पड़ोसी देश से आग्रह किया गया है कि वह अपनी अग्रिम सैन्य टुकड़ियों को कोई उकसाने वाली कार्रवाई करने से रोकने के लिए अनुशासित और काबू में रखे।

इस संदर्भ में प्रवक्ता ने चीनी सेना की ओर से 29 अगस्त की देर रात और 30 अगस्त को चीनी सेना की ओर से पेंगौंग झील के दक्षिणी तट पर यथास्थिति में बदलाव करने की कोशिश का उल्लेख किया।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि इस वर्ष के शुरू से ही चीनी पक्ष वास्तविक नियंत्रण रेखा ऐसा व्यवहार और कार्रवाई कर रहा है जो द्विपक्षीय समझौतों और तयशुदा सहमति के खिलाफ है। इस तरह की कार्रवाईयां दोनों देशों के विदेश मंत्रियों और सीमा वार्ता के लिए नियुक्त विशेष प्रतिनिधियों के बीच बनी सहमति की भी खुली अवहेलना है।

प्रवक्ता ने कहा कि चीन की सेना ने 29 अगस्त की रात और 30 अगस्त की सुबह को पेंगौंग झील के दक्षिणी तट पर यथास्थिति में बदलाव करने के लिए उकसाने वाली कार्रवाई की थी। इसे विफल करने के लिए भारतीय सेना ने आवश्यक रक्षात्मक उपाय किए। भारत की कार्रवाई राष्ट्रीय हितों और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करने के लिए था।

उन्होंने आगे कहा कि भारत वास्तविक नियंत्रण रेखा और पश्चिमी सेक्टर से जुड़े सभी मुद्दों का समाधान शांतिपूर्ण वार्ता से करने के लिए कृतसंकल्प है। भारत की यह अपेक्षा है कि चीनी पक्ष भी पहले बनी सहमति का ईमानदारी से पालन करेगा तथा सीमा क्षेत्र में शांति और सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए भारत के साथ ईमानदारी से काम करेगा।

प्रवक्ता ने इस बात का उल्लेख किया कि दोनों देशों के विदेश मंत्रियों और विशेष प्रतिनिधियों की वार्ता में यह सहमति थी कि स्थिति से जिम्मेदाराना तरीके से निपटा जाएगा तथा कोई भी पक्ष उकसाने या स्थिति को बिगाड़ने वाली कार्रवाई नहीं करेगा। चीनी पक्ष ने इस सहमति की अवहेलना की।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close