अंगूठे का क्लोन बनाकर जन सेवा केंद्र संचालकों ने हेराफेरी करके कई करोड़ का किया घोटाला, पुलिस ने 6 आरोपी गिरफ्तार कर भेजा जेल

जलालाबाद तहसील क्षेत्र के जन सेवा केंद्र संचालकों द्वारा सरकारी योजनाओं के पैसे को धोखाधड़ी करके खातों से उड़ाने के आरोप में शाहजहांपुर पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 6 शातिर गिरोह के सदस्य गिरफ्तार जबकि कई अन्य फरार।

शाहजहांपुर॥ जलालाबाद तहसील क्षेत्र के जन सेवा केंद्र संचालकों द्वारा सरकारी योजनाओं के पैसे को धोखाधड़ी करके खातों से उड़ाने के आरोप में शाहजहांपुर पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 6 शातिर गिरोह के सदस्य गिरफ्तार जबकि कई अन्य फरार।

Shahjahanpur

शाहजहांपुर जिले के थाना जलालाबाद क्षेत्र में पुलिस ने एक ऐसे बड़े गैंग का खुलासा किया है, एक ऐसे बड़े गिरोह का पर्दाफाश किया है जो डिजिटल पेमेंट द्वारा धोखाधड़ी करके गरीब लाभार्थियों का पैसा में सेंधमारी करते थे। जिससे विधवा पेंशन छात्रवृत्ति किसान पेंशन योजना ,कैश ट्रांसफर आदि योजनाओं का पैसा बड़े ही शातिर तरीके से निकालने का काम करते थे ।

बरामद किए गए आर्टिफिशियल फिंगरप्रिंट

एसओजी व थाना जलालाबाद द्वारा संयुक्त कार्रवाई में ग्रामीण बैंक खाता धारक के नकली फिंगरप्रिंट तकनीकी माध्यम से बना कर अवैध रूप से पैसा निकालने वाले संगठित गिरोह का पर्दाफाश करते हुए ,गिरोह सरगना सहित छह अभियुक्तों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से आर्टिफिशियल फिंगरप्रिंट ,ड़मी प्रिंट डमी मोहर व अन्य अभिलेख बरामद किए गए हैं ।

आपको बता दें विगत दिनों एसओजी प्रभारी व प्रभारी निरीक्षक जलालाबाद जसवीर सिंह को यह सूचना प्राप्त हो रही थी कि जनपद के कई बैंक मित्रों द्वारा अपने सेवा केंद्रों के माध्यम से सीधे साधे खाताधारकों के अंगूठा निशान फिंगरप्रिंट को नकली रूप से तैयार करके उसके खातों से फिंगरप्रिंट स्कैनर आधार कार्ड का उपयोग कर खातों से पैसे निकाल लिए जाते हैं। यह एक अपराध एक संगठित गिरोह के रूम में काम कर रहे थे।

ऐसे निकाली जाती थी खासों से धनराशि

इस सूचना को विकसित करते हुए प्रभारी एसओजी श्री रोहित कुमार व प्रभारी निरीक्षक श्री जसवीर सिंह द्वारा मुखबिरओं के माध्यम से महत्वपूर्ण जानकारियां एकत्र की गई तब यह तथ्य प्रकाश में आया कि थाना जलालाबाद क्षेत्र के बैंक मित्र शिवराम व गौरव के माध्यम से खातेदारों के फर्जी फिंगर प्रिंट बनाकर उनके खातों से धनराशि निकाली जाती है । इनकी गतिविधियों पर निगरानी रखी जाती है ताकि इनके विरुद्ध साक्ष्य संकलित कर ठोस कार्रवाई की जा सके ।

थाना जलालाबाद पर 3 खाताधारकों द्वारा इसी संबंध में अलग-अलग अभियोग पंजीकृत कराए गए थे। इसी सूचना के आधार पर पुलिस द्वारा शिवराम व उसके साथियों की दुकान में मौजूद उनके फर्जी अंगूठा चिन्ह पासबुक आदि की बरामदगी की गई ।इस सूचना पर टीम बनाकर शिवराम के बैंक सेवा केंद्र पर दबिश देकर तीन अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया ।

इसमें खाताधारकों के पासबुक आधार कार्ड बरामद हुए पूछताछ पर इनके द्वारा बताया गया कि गौरव से हम लोग अंगूठे के ग्लू गन से ग्लू स्टिक पिघलाकर उस पर खाताधारकों के अंगूठा चिन्ह उसे ग्लू से ले लेता था। उसे सूख जाने पर दोनों को बैंक मित्र के पास भेज देता था ।इसका उपयोग कर शिवराम अभियुक्त गण खाताधारकों के खाता से पैसा निकाल लेते थे गौरव से पूछताछ व एक अन्य बैंक सेवा केंद्र पर दबिश देकर हुकुम सिंह के पास से भारी मात्रा में फिंगरप्रिंट में पासबुक बरामद की गई है ।

इस संबंध में थाना जलालाबाद में मुकदमा संख्या 107 से लेकर 111 तक दर्ज किया गया जिसमें संगीन धाराएं लगाई गई हैं। इस टीम को सफल बनाने में श्री जसवीर सिंह प्रभारी निरीक्षक जलालाबाद रोहित कुमार एसओजी प्रभारी एवं सब इंस्पेक्टर विनोद कुमार जीत सिंह हेड कांस्टेबल देवेंद्र यादव राजारामबापू देवर ने जी तोड़ मेहनत की है ।

इस मामले में पुलिस ने लैपटॉप आधार कार्ड बायोमेट्रिक, थम्स स्केनर मशीन पासबुक अंगूठे के निशान बामोर ए फोटो पैन कार्ड ग्लू गन व एक 315 बोर का तमंचा भी बरामद किया है ।

गिरफ्तार किए गए अभियुक्त शिवराम पुत्र दिनेश निवासी ग्राम महुआ डांडी ,सुनील त्रिपाठी पुत्र ओम प्रकाश त्रिपाठी निवासी मोहल्ला ब्रह्मांन कस्बा जलालाबाद ,देवव्रत पुत्र चंद्रपाल सिंह निवासी ग्राम गुरगवां ,हुकुम सिंह पुत्र वीरेश पाल निवासी ढका, गौरव पुत्र ब्रहम पाल निवासी भैंस्टा थाना कांठ व संदीप सिंह पुत्र भानु निवासी खखूडी जबकि शाहनूर व राजवीर नाम के दो आरोपी मौके से फरार चल रहे हैं ।

पुलिस उनकी टीम लगाकर गिरफ्तारी का प्रयास कर रही है । इस संबंध में प्रेस वार्ता करते हुए बरेली रेंज के आईजी ने प्रेस वार्ता में बताया कि डिजिटल पेमेंट द्वारा धोखाधड़ी करने के आरोप में छह आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं जो कि सरकार की आने वाली तमाम योजनाएं जो गरीबों के लिए सरकार द्वारा भेजी जाती थी ,उन खाते में ट्रांसफर की जाती थी।

जिसमें विधवा छात्रवृत्ति ट्रांसफर होता था यह शातिर लोग क्लोन वाले अंगूठे से उनका पैसा निकाल लेते थे ।यह एक बड़ा मामला है ।अनुमान है इस मामले में कई करोड़ का गबन किया गया है ।वहीं उन्होंने बताया कि यह लोग फर्जी लोगों को मृत दिखाकर उनके नाम से खाता खोलकर दुर्घटना बीमा का लाभ भी हजम कर जाते थे। जिसका मास्टरमाइंड शाहनूर है जो अभी फरार चल रहा है। -राम निवास शर्मा मैथिल

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *