कमलनाथ का शिवराज पर पलटवार, कहा- जनता का निर्णय कहां शिरोधार्य हुआ?

अब पूर्व सीएम एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमनलाथ और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बीच ट्विटर वार शुरू हो गया है।

विधानसभा की रिक्त 28 सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव को प्रदेश की दोनों प्रमुख पार्टियों के नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। इसी क्रम में अब पूर्व सीएम एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमनलाथ और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बीच ट्विटर वार शुरू हो गया है।

kamal_nath_

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि कमलनाथ जी, हमें जनता का निर्णय शिरोधार्य होगा। इस पर पूर्व सीएम कमलनाथ ने पलटवार करते हुए ट्वीट के माध्यम से ही शिवराज सिंह चौहान को जवाब दिया है। उन्होंने कहा है कि जनता का निर्णय कहां शिरोधार्य हुआ है?

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए कहा कि -‘शिवराज जी, जनता ने तो प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाने का निर्णय लिया था, लेकिन आपको जनता का निर्णय कहां शिरोधार्य हुआ? सौदेबाजी से लोकतंत्र की हत्या कर, जनादेश का अपमान कर हमारी सरकार बीच में ही गिरा दी गयी।’

रोजगार के अभाव में आत्महत्या में नंबर वन राज्य

उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा है कि -‘ इन 15 माह में हमने इन सब कामों के साथ ही प्रदेश की पहचान बदलने का काम भी किया। आपकी सरकार में प्रदेश के माथे पर लगे महिलाओं में अत्याचार में नंबर वन, किसानों की आत्महत्याओं में नंबर वन, बेरोजगारी में नंबर वन, भ्रष्टाचार में नंबर वन, मजदूरों के उत्पादन में नंबर वन, युवाओं की रोजगार के अभाव में आत्महत्या में नंबर वन। हमने तो प्रदेश के दाग को धोने का काम भी किया। प्रदेश की जनता इस सच्चाई को जानती है और उस जनता का अगला निर्णय भी हमें शिरोधार्य होगा।’

दरअसल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी शनिवार को ही ट्वीट के माध्यम से कमलनाथ पर निशाना साधा था। उन्होंने लिखा था कि -‘ कमलनाथ जी, आप के झूठे वादों से डिफाल्टर बन चुके किसानों को राहत दूं? फसल खरीदूं? फसल बीमे से नुकसान का भुगतान करूं? छात्रों को प्रोत्साहन दूं? बेटियों का कन्यादान करूं? स्ट्रीट वेंडर्ज को ऋण दूं या फिल्मी सितारों का मजमा लगा कर तमाशा रचाऊं?’ उन्होंने दूसरे ट्वीट में कहा है कि -‘हमें ना तो ‘तमाशों’ की राजनीति आती है ना ही ‘तमाचों’ की। हमें तो सिर्फ जनता की सेवा की नीति आती है। हे ईश्वर! मुझे तुम इतनी शक्ति देना की हर तरह से में मध्यप्रदेश की सेवा कर पाऊं। कमलनाथ जी, हमें जनता का निर्णय शिरोधार्य होगा।’

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *