Immune system in Hindi: बस 2 मिनट में जानिए इम्यून सिस्टम का महत्व

अगर आप इम्यून सिस्टम का महत्व नहीं जानते तो बस इतना समझ लीजिए कि इम्यून सिस्टम हमारे शरीर में एक कवच की तरह काम करता है।इस दुनिया में अनगिनत बैक्टीरिया और वायरस हैं जो हमको बहुत बुरी तरह से नुकसान पहुंचा सकते हैं।

इम्यून सिस्टम का महत्व इसी बात से समझ में आता है कि अभी कोरोना वायरस महामारी के समय डॉक्टर कोविड पीड़ित को बस वही दवा देते थे जो इम्यून सिस्टम बढ़ा सके।हमारी प्रत्येक क्रिया का असर इम्यून सिस्टम पर पड़ता है। यहां तक कि सोने का भी।

ये क्रियाएं ही इम्यून सिस्टम का महत्व और कार्यक्षमता बढ़ा सकती हैं और यही क्रियाएं इम्यून सिस्टम की कार्यक्षमता घटा सकती हैं।अच्छी बात ये है कि इम्यून सिस्टम को हम आसानी से प्राकृतिक तरीके से बिना किसी मंहगे इलाज के भी बढ़ा सकते हैं। इस आर्टिकल में हम इम्यून सिस्टम का महत्व जानने के साथ साथ इम्यून सिस्टम के बारे में थोड़ा संक्षिप्त रूप से जानने की कोशिश करेगे।

इम्यून सिस्टम का महत्व

Blood Pressure Control: फिट रहना है तो गर्मियों में जरूर पिएं ये हेल्दी ड्रिंक्स, ब्लड प्रेशर रहेगा सामान्य

इम्यून सिस्टम क्या होता है

प्रतिरक्षा प्रणाली अंगों, श्वेत रक्त कोशिकाओं, प्रोटीन (एंटीबॉडी) और रसायनों का एक बड़ा नेटवर्क है।

यह प्रणाली आपको बाह्य आक्रमणकारियों (बैक्टीरिया, वायरस, परजीवी और कवक) से बचाने के लिए मिलकर काम करती है जो संक्रमण, बीमारी और बीमारी का कारण बनते हैं।

इम्यून सिस्टम का महत्व का अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि अगर शरीर मे इम्यून सिस्टम न होता तो हम एक सेकंड के लिए भी जीवित न रह पाते।

इम्यून सिस्टम के क्या क्या भाग होते हैं

प्रतिरक्षा प्रणाली कोशिकाओं और अंगों के एक जटिल संग्रह से बनी होती है।  ये सभी आपको कीटाणुओं से बचाने के लिए मिलकर काम करते हैं और बीमार होने पर आपको बेहतर होने में मदद करते हैं।इम्यून सिस्टम के निम्न भाग ही इम्यून सिस्टम का महत्व बढ़ाते हैं।

सफेद रक्त कणिका (White blood cells)

यह हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस के खिलाफ एक सेना के रूप में कार्य करती हैं।श्वेत रक्त कोशिकाएं कीटाणुओं की खोज करती हैं उन पर आक्रमण और विनाश करती हैं।श्वेत रक्त कोशिकाएं प्रतिरक्षा प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं।प्रतिरक्षा प्रणाली में कई प्रकार की श्वेत रक्त कोशिकाएं होती हैं।

प्रत्येक प्रकार की कोशिका या तो रक्तप्रवाह में और पूरे शरीर में घूमती है या एक विशेष ऊतक में रहती है, जो किसी बाह्य आक्रमण की प्रतीक्षा में रहती है।शरीर की रक्षा प्रणाली में प्रत्येक प्रकार की कोशिका का एक विशिष्ट कार्य होता है।प्रत्येक के पास किसी समस्या को पहचानने, रक्षा दल की अन्य कोशिकाओं के साथ संवाद करने और कार्य करने का एक अलग तरीका होता है।

लिंफ नोड्स (Lymph nodes)

ये छोटी ग्रंथियां कीटाणुओं को छानकर नष्ट कर देती हैं ताकि वे आपके शरीर के अन्य भागों में न फैल सकें और आपको बीमार न कर सकें।  लिम्फ नोड्स शरीर के लसीका तंत्र (lymphatic system) का भी हिस्सा हैं।

लिम्फ नोड्स में प्रतिरक्षा कोशिकाएं होती हैं जो शरीर में  आक्रमण करने वाले जीवाणु और विषाणु का विश्लेषण करती हैं, फिर उस विशेष आक्रमणकारी से लड़ने के लिए विशिष्ट लिम्फोसाइट्स (श्वेत रक्त कोशिकाओं) को सक्रिय करते हैं। पूरे शरीर में सैकड़ों लिम्फ नोड्स हैं, जिसमें आपकी गर्दन, बगल और कमर शामिल हैं। कभी कभी ये लिम्फ नोड्स सूज जाते हैं जो इस बात का संकेत हैं कि आपका शरीर किसी संक्रमण से लड़ रहा है।

स्प्लीन (Spleen)

ये सफेद रक्त कोशिकाओं को एकत्रित करती है, जो शरीर को विदेशी आक्रमणकारियों से बचाती है।यह खून को फिल्टर भी करता है, पुरानी और क्षतिग्रस्त लाल रक्त कोशिकाओं को नष्ट करती है।

टॉन्सिल्स और एडिनॉइड्स (Tonsils and adenoid)

टॉन्सिल और एडेनोइड शरीर में प्रवेश करते ही बाह्य पदार्थ को (बैक्टीरिया या वायरस) को खत्म कर देते हैं क्योंकि ये गले और नाक के मार्ग में स्थित होते हैं।

टॉन्सिल्स और एडिनॉइड्स में प्रतिरक्षा कोशिकाएं होती हैं जो एंटीबॉडी का उत्पादन करती हैं यही एंटीबॉडी ऐसे वायरस और बैक्टीरिया को खत्म करते हैं जो गले और फेफड़ों में संक्रमण का कारण बनती हैं।

थायमस (Thymus)

यह श्वेत रक्त कोशिका को परिपक्व करने में मदद करता है।थायमस का विशिष्ट कार्य एक बाह्य पदार्थ को पहचानना और याद रखना है ताकि अगली बार जब यह बाह्य पदार्थ शरीर में प्रवेश करे तो हमला जल्दी से किया जा सके।

अस्थि मज्जा (Bone marrow)

यह रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है। अस्थि मज्जा हर दिन अरबों नई रक्त कोशिकाओं का निर्माण करती है और उन्हें रक्तप्रवाह में छोड़ती है।

त्वचा और म्यूकस मेंब्रेन (Mucous membrane)

त्वचा शरीर में प्रवेश करने से पहले रोगाणुओं को रोकने और नष्ट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।म्यूकस मेंब्रेन श्वसन, पाचन, मूत्र और प्रजनन तंत्र का बाहरी आवरण बनाती है।ये एक प्रकार का चिपचिपा पदार्थ म्यूकस का स्राव करती है जो बाह्य पदार्थ को चिपका लेता है। इसके अलावा म्यूकस मेंब्रेन में कई प्रकार के एंजाइम्स पाए जाते हैं जो हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस को खत्म कर देते हैं।

इम्यून सिस्टम काम कैसे करता है

प्रतिरक्षा प्रणाली को कई अलग-अलग चीजों से सक्रिय किया जा सकता है जिन्हें शरीर नहीं पहचानता है। इन्हें “एंटीजन (antigen)” कहा जाता है।एंटीजन के उदाहरणों में बैक्टीरिया, कवक और वायरस की सतहों पर प्रोटीन शामिल हैं।

जब ये एंटीजन प्रतिरक्षा कोशिकाओं (प्रतिरक्षा प्रणाली कोशिकाओं) पर विशेष रिसेप्टर्स से जुड़ते हैं, तो शरीर में प्रक्रियाओं की एक पूरी श्रृंखला शुरू हो जाती है।

एक बार जब शरीर पहली बार रोग पैदा करने वाले रोगाणु के संपर्क में आता है, तो यह आमतौर पर रोगाणु और उससे लड़ने के तरीके के बारे में जानकारी संग्रहीत करता है।

फिर, यदि यह फिर से रोगाणु के संपर्क में आता है, तो यह रोगाणु को तुरंत पहचान लेता है और इससे तेजी से लड़ना शुरू कर सकता है।

शरीर की अपनी कोशिकाओं की सतह पर भी प्रोटीन होते हैं लेकिन ये प्रोटीन आमतौर पर कोशिकाओं से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को ट्रिगर नहीं करते हैं।  कभी-कभी प्रतिरक्षा प्रणाली विभिन्न कारणों से यह सोचती है कि शरीर की अपनी कोशिकाएं बाह्य पदार्थ हैं, तब यह शरीर में स्वस्थ, हानिरहित कोशिकाओं पर हमला करती हैं।

इसे एक “ऑटोइम्यून प्रतिक्रिया” (autoimmune response) के रूप में जाना जाता है।

इम्यून सिस्टम का महत्व

इम्यून सिस्टम हमारे शरीर में रक्षक की तरह काम करता है।

इम्यून सिस्टम का महत्व हम निम्न प्रकार से समझ सकते हैं।

  • इम्यून सिस्टम बाहरी आक्रमणकारियों से हमारे शरीर की रक्षा करता है।
  • यह बाहरी आक्रमणकारियों को खोजता है।
  • यह बाहरी आक्रमणकारियों को याद रखता है।
  • यह बाहरी आक्रमणकारियों को शरीर के सबसे बाहरी भाग से ही नष्ट कर देता है।

थायरॉइड की समस्या के लिए रामबाण है यह योगासन, जरूर आजमाएं