एकमुखी से पंचमुखी तक जानिए कौन से रुद्राक्ष को धारण करने से होते हैं फायदे

नई दिल्ली: सनातन धर्म में रुद्राक्ष का विशेष महत्व है और साथ ही इसका विशेष महत्व है. दरअसल रुद्राक्ष ही प्रकृति का दिया हुआ एक ऐसा वरदान है, जो अर्थ, धर्म, काम और मोक्ष की प्राप्ति में लाभकारी माना जाता है। जी हाँ और शास्त्रों के अनुसार रुद्राक्ष भगवान शिव के नेत्रों से गिरने वाली जल की बूंदों से बनता है। कहा जाता है कि रुद्राक्ष धारण करने वाले पर भगवान शिव की कृपा बनी रहती है। अब आज हम आपको बताते हैं कि कौन सा रुद्राक्ष धारण करता है और इसके क्या फायदे हैं।

एक मुखी रुद्राक्ष – इसे सबसे दुर्लभ माना जाता है। जी हाँ और इसके बारे में कहा जाता है कि यह सभी सिद्धियों का दाता है। इतना ही नहीं, बल्कि जहां यह रहता है, वहां अष्टसिद्धि और नवसिद्धियां निवास करती हैं। जो एक मुखी रुद्राक्ष धारण करता है उसे इन्द्रियों पर विजय प्राप्त होती है।

दोमुखी रुद्राक्ष – इस रुद्राक्ष के बारे में कहा जाता है कि यह अर्धनारीश्वर का रूप है। जी हाँ और इसे धारण करने वाले को माता पार्वती और शिव दोनों की कृपा प्राप्त होती है. हां, दांपत्य जीवन में सुख-समृद्धि के लिए इस रुद्राक्ष को धारण करना चाहिए।

तीन मुखी रुद्राक्ष – तीन मुखी रुद्राक्ष अग्नि का रूप है, इसे धारण करने से अग्निदेव सदैव प्रसन्न रहते हैं। हां और इसे पहनने से गति और ऊर्जा बढ़ती है। साथ ही यह जाने या अनजाने में अतीत में किए गए सभी पापों का नाश करने वाला है।

चारमुखी रुद्राक्ष- चतुर्मुखी रुद्राक्ष चतुरणंन ब्रह्मा का वास्तविक रूप है। जी हाँ और इसे धारण करने पर हमेशा ब्रह्मा जी की कृपा प्राप्त होती है. इतना ही नहीं इसे धारण करने वाला व्यक्ति धन से संपन्न होता है। इसके साथ ही यह रुद्राक्ष बुध का प्रतीक माना जाता है। दरअसल इसे पहनने से लिखने की शक्ति और वाक् शक्ति में भी वृद्धि होती है।

पंचमुखी रुद्राक्ष – यह रुद्राक्ष भगवान शिव का स्वरुप है। जी हां और यह रुद्राक्ष नरहत्य के दोषों को दूर करने में सक्षम है। इतना ही नहीं इस रुद्राक्ष को धारण करने से बृहस्पति के अशुभ फल समाप्त होते हैं और शुभ फल प्राप्त होते हैं। यह आत्मज्ञान और आध्यात्मिक विकास के लिए महत्वपूर्ण है।