जानें – WHO का फोकस दुनियाभर में मलेरिया वैक्सीन बनाने के लिए फंडिंग के इंतजाम

दुनिया में मलेरिया के पहले टीके आरटीएस, एस/एएस01 को डब्ल्यूएचओ ने मंजूरी दे दी है। मलेरिया से सबसे ज्यादा प्रभावित अफ्रीकी देशों से इसकी शुरुआत होगी।

दुनिया में मलेरिया के पहले टीके आरटीएस, एस/एएस01 को डब्ल्यूएचओ ने मंजूरी दे दी है। मलेरिया से सबसे ज्यादा प्रभावित अफ्रीकी देशों से इसकी शुरुआत होगी। इसके बाद WHO का फोकस दुनियाभर में मलेरिया वैक्सीन बनाने के लिए फंडिंग के इंतजामों पर होगा, जिससे यह टीका हर जरूरतमंद देश तक पहुंच सके। इसके बाद संबंधित देशों की सरकारें तय करेंगी कि वे मलेरिया को कंट्रोल करने के उपायों में वैक्सीन को शामिल करती हैं या नहीं।

malaria vaccine

कैसे काम करेगी यह वैक्सीन-

WHO ने सब-सहारा अफ्रीकी देशों के बच्चों को दो साल की उम्र तक मलेरिया वैक्सीन के 4 डोज देने की सिफारिश की है। यह वैक्सीन प्लाच्मोडियम फैल्सिपेरम को बेअसर कर देती है। प्लाच्मोडियम फैल्सिपेरम मलेरिया फैलाने वाले 5 पैरासाइट्स में से एक है और सबसे खतरनाक होता है।

अफ्रीकी देशों में हुआ वैक्सीन का ट्रायल-

मलेरिया की वैक्सीन आरटीएस, एस/एएस01 का इस्तेमाल 2019 में घाना, केन्या और मालावी में पायलट प्रोग्राम के तौर पर शुरू किया गया था। इसके तरह 23 लाख बच्चों को वैक्सीन दी गई थी। इसके नतीजों के आधार पर ही WHO ने अब वैक्सीन को मंजूरी दी है। इस वैक्सीन को पहली बार 1987 में जीएसके कंपनी ने बनाया था।

सबसे ज्यादा मौतें नाइजीरिया में-

  • WHO के मुताबिक वैक्सीन से मलेरिया के हर 10 में से 4 मामले रोके जा सकते हैं और गंभीर मामलों में 10 में से 3 लोग बचाए जा सकते हैं।
  • मलेरिया की वजह से दुनियाभर में हर साल 4.09 लाख मौतें हो जाती हैं, इनमें ज्यादातर अफ्रीकी देशों के बच्चे होते हैं।
  • दुनियाभर में मलेरिया से जितनी मौतें होती हैं, उनमें से आधी मौतें 6 सब-सहारा अफ्रीकी देशों में होती हैं। इनमें एक चौथाई मामले नाइजीरिया के होते हैं।

भारत में हर साल मलेरिया के 3 लाख से ज्यादा केस-

भारत में 2019 में मलेरिया के 3 लाख 38 हजार 494 केस आए थे और 77 लोगों की मौत हुई थी। पिछले 5 सालों में भारत में मलेरिया से सबसे ज्यादा 384 मौतें 2015 में हुई थीं। इसके बाद से मौतों का आंकड़ा लगातार कम हुआ है।

बड़ी उम्मीद है वैक्सीन-

WHO ने कहा है कि मलेरिया से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों के लिए यह वैक्सीन एक बड़ी उम्मीद लेकर आई है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *