लखीमपुर खीरी केस: केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के बेटे पर दर्ज हुई FIR , राकेश टिकैत ने प्रशासन के सामने रखी ये बड़ी शर्त

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में रविवार को हुई हिंसा मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा के खिलाफ मुकदमा...

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में रविवार को हुई हिंसा मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। इधर, किसान नेता राकेश टिकैत ने प्रशासन से मांग की है कि घटना के जिम्मेदार सभी लोगों पर एफआईआर दर्ज की जाये। किसानों की पहली मांग मानते हुए आशीष मिश्रा के खिलाफ हत्या, गैर इरादतन हत्या, दुर्घटना और बलवे की धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। इसके साथ ही संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि जब तक दोषी गिरफ्तार नहीं किये जायेंगे तब तक किसानों के शवों का अन्तिम संस्कार नहीं किया जायेगा। बता दें कि कल हुए बवाल में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गयी थी।

lakhimpur hinsa

किसान नेताओं के साथ हुई बैठक के बाद लखीमपुर के डीएम​ अरविंद चौरसिया ने कहा, ”कई चीजों पर चर्चा हुई, मांग पत्र प्राप्त हुआ है, गृह राज्य मंत्री को बर्खास्त करने, FIR दर्ज़ करने और मृतकों को मुआवज़ा देने, हर परिवार के एक-एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने और पूरे घटनाक्रम की न्यायिक जांच कराने की मांग की है।” उन्होंने कहा कि किसानों की मांगों को हमने इसे उच्चस्तर पर भेजा है, हम एक दौर की वार्ता और करेंगे।

लखीमपुर में कल क्या हुआ था?

दरअसल, उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को लखीमपुर खीरी में आयोजित कुश्ती कार्यक्रम में शिरकत करना था। डिप्टी सीएम के पहुंचने के पहले से किसान, कृषि कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे।किसानों का आरोप है कि केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे अशीष मिश्रा और उसके समर्थकों ने प्रदर्शन कर रहे किसानों पर गाड़ियां चढ़ा दीं। इससे बाद गुस्साए किसानों ने उनकी2 SUV कार में आग लगा दी। इस पूरे मामले में अब तक कई लोगों की जान जा चुकी है। हिंसा की खबर के बाद डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने अपना लखीमपुर दौरा रद्द कर दिया।

दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा- सीएम 

घटना के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किसानों को आश्वासन दिया है कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। मुख्यमंत्री ने ट्विटर पर लिखा, ”घटना दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है, हम तह तक जाएंगे और हिंसा में शामिल सभी को बेनकाब करेंगे, दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।” लखीमपुर हिंसा पर योगी सरकार ने बड़ी बैठक भी की। ADG लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने बैठक में घटना की पूरी जानकारी दी।

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा बोले-

इस पूरे मामले को लेकर केंद्रीय गृहराज्यमंत्री अजय मिश्रा का कहना है कि किसानों के रूप में उपद्रवी तत्वों ने किया। उन्होंने कहा, ”किसानों के बीच छिपे कुछ उपद्रवी तत्वों ने उनकी (भाजपा कार्यकर्ताओं) गाड़ियों पर पथराव किया और लाठी-डंडे चलाने शुरू कर दिए। इसके बाद किसानों को खींचकर लाठी-डंडों और तलवारों से मारापीटा,इसका वीडियो भी हमारे पास हैं।” उन्होंने कहा, ”उपद्रवी तत्वों में गाड़ियों को सड़क से नीचे खाई में धक्का दिया। गाड़ियों में आग लगाई, तोड़फोड़ की। मेरा बेटा कार्यक्रम खत्म होने तक वहीं (कार्यक्रम स्थल) था, उन्होंने जिस तरह से घटनाएं की हैं अगर मेरा बेटा वहां (घटनास्थल पर) मौजूद होता तो वे लोग उसकी भी पीटकर हत्या कर देते। हमारे कार्यकर्ताओं की दुखद मृत्यु हुई है। हमारे तीन कार्यकर्ता और ड्राइवर मारा गया है। हम इसके खिलाफ एफआईआर कराएंगे। इसमें शामिल सभी लोगों पर धारा 302 का केस लगाया जाएगा।”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *