लखीमपुर हिंसा: प्रशासन ने लगाया पहरा, तो घर के बाहर ही धरने पर बैठे गए अखिलेश यादव, पुलिस ने लिया हिरासत में

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के बाद अब सियासत शुरू हो गयी है। विपक्षी दल के तमाम...

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के बाद अब सियासत शुरू हो गयी है। विपक्षी दल के तमाम नेता लखीमपुर पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन प्रशासन उन्हें वहां जाने की इजाजत नहीं दे रहा है। समाजवादी पार्टी के मुखिया और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के घर के बाहर सुबह से ही प्रशासन ने बेहद कड़ा पहरा बैठा दिया। बावजूद इसके तमाम सपा कार्यकर्ता अखिलेश यादव के घर के बाहर पहुंच गए। प्रशासन की इस सख्ती से नाराज पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने ही घर के बाहर ही धरने पर बैठ गए और राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा। कुछ देर बाद अखिलेश को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। सपा के सैकड़ों समर्थकों और पुलिस के बीच जमकर नोकझोंक और धक्कामुक्की हुई। इस बीच गौतमपल्ली थाने के पास कुछ अराजक तत्वों ने एक पुलिस वाहन को आग के हवाले कर दिया।

akhilesh yadav

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री का इस्तीफा मांगा

अखिलेश यादव ने कहा किसानों पर अंग्रेजों से भी ज्यादा जुल्म हुआ है। सरकार किसी की भी जान ले सकती है। उन्होंने कहा भाजपा की सरकारपूरी तरह से असफल हो चुकी है। गृह राज्य मंत्री को इस्तीफा दे देना चाहिए।” उन्होंने कहा, ”जिन किसानों की जान गई उनके परिवार को सरकारी नौकरी और 2 करोड़ की मदद दी जानी चाहिए। सरकार को किसानों की मदद करनी चाहिए। उप मुख्यमंत्री का भी दौरा था, उनकी भी जिम्मेदारी है उनको भी इस्तीफा देना चाहिए।” पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ”सरकार सच्चाई दबा रही है, आज से आंदोलन नहीं चल रहा है, किसानों की मांग है कानून रद्द करो।” अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि पुलिस के लोग गाड़ी जला रहे हैं।

लखीमपुर में कल क्या हुआ था?

दरअसल, उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को लखीमपुर खीरी में आयोजित कुश्ती कार्यक्रम में शिरकत करना था। डिप्टी सीएम के पहुंचने के पहले से किसान, कृषि कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे थे।किसानों का आरोप है कि केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे अशीष मिश्रा और उसके समर्थकों ने प्रदर्शन कर रहे किसानों पर गाड़ियां चढ़ा दीं। इससे बाद गुस्साए किसानों ने उनकी2 SUV कार में आग लगा दी। इस पूरे मामले में अब तक कई लोगों की जान जा चुकी है। हिंसा की खबर के बाद डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने अपना लखीमपुर दौरा रद्द कर दिया।

दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा- सीएम योगी आदित्यनाथ

घटना के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किसानों को आश्वासन दिया है कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। मुख्यमंत्री ने ट्विटर पर लिखा, ”घटना दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण है, हम तह तक जाएंगे और हिंसा में शामिल सभी को बेनकाब करेंगे, दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।” लखीमपुर हिंसा पर योगी सरकार ने बड़ी बैठक भी की। ADG लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने बैठक में घटना की पूरी जानकारी दी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *