Lal Kitab Remedy: करें ये अचूक उपाय, बनने लगेंगे बिगड़ते काम, फिर बन जायेंगे धनवान

एक समय था जब जिंदगी पटरी पर चल रही थी। किस्मत भी खूब साथ दे रही थी। धन वैभव खूब था फिर अचानक ऐसा क्या हो गया कि आपकी जिंदगी और किस्मत खराब...

एक समय था जब जिंदगी पटरी पर चल रही थी। किस्मत भी खूब साथ दे रही थी। धन वैभव खूब था फिर अचानक ऐसा क्या हो गया कि आपकी जिंदगी और किस्मत खराब खोने लगे और आप धीरे-धीरे धनवान से गरीब होते चले गए। हालात इतने खराब हो गए कि आपको अपनी जिंदगी दूसरों के सहारे जीनी पड़ रही है। किस्मत के इस तरह पलटने से आप बेचैन और तनाव में रहने लगे हैं। लेकिन इस तरह की बेचैनी और तनाव जिंदगी को तबाह कर देता है। इन सब से अच्छा है कि इससे उबरने का उपाय ढूढ़ा जाये। अगर ये समस्याएं कुंडली के खराबी से की वजह से आई है तो लाल किताब के कुछ उपायों से इस दूर किया जा सकता है। आइए जानते है वो उपाय…

LAL KITAB

गरीबी और मजबूरी के कारण

  • ज्योतिषशास्त्र कहते हैं कि कई बार कुंडली तो सही होती है लेकिन व्यक्ति के कर्म उसे गरीब और मजबूर बना देते है। जैसे कि किसी को शराब और जुए की लत लग गई तो वह शख्स जीवन में कुछ भी नहीं कर सकता है और वह गरीब हो जाता है
  • लाल किताब के अनुसार शनि राहु और केतु के धीमे कार्य करने की वजह से भी व्यक्ति गरीबी और संकट से गुजर रहा होता है।
  • लाल किताब में लिखा है अगर शनि भाव में है और उसी समय मंगल या चंद्र ,सूर्य में से कोई एक, दो या फिर तीनों ग्रह तीसरे पांचवें यह सातवें भाव में स्थित होते है तो जातक का जीवन बर्बाद हो जाता है।

इससे उभरने के उपाय

  • शनि राहु और केतु धीमे कार्य ना करें। इसके लिए सबसे पहले अपने कर्मों में सुधार करें अच्छे कर्म करने का प्रयास करें।
  • 43 दिनों तक लगातार गुड़ और गेहूं का दान करें। इसके बाद लगातार तीन साल तक हर रविवार मंदिर में गेहूं और गुड़ का दान l करते रहे। इससे दशा ठीक हो जाएगी।
  •  इसके साथ है लगातार तीन साल तक हर दिन हनुमान चालीसा का पाठ करें। प्रत्येक मंगलवार और शनिवार को हनुमान जी के मंदिर जाकर चमेली के तेल का दीप जलाएं और सिंदूर का चढ़ावा चढ़ाये।
  •  अगर कुंडली में शनि सातवें भाव में विराजमान है और चंद्रमा अकेले ही तीसरे पांचवें और सातवें भाव में हो तो ऐसी स्थिति में चावल में दूध मिलाकर 43 दिनों तक लगातार दान करें। ये दान हर सोमवार को मंदिर में करना चाहिए।
  • वहीं अगर शनि ठीक सातवें और चंद्र या मंगल तीसरे पांचवें और सातवें भाव में हो तो 43 दिन तक दूध और हलवे को मिलाकर मंदिर में बांटे।                                                                                                                                                                                                                                                         यह सारे उपाय लाल किताब से लिए गए हैं। अगर आप इन सभी उपायों का विधि से पालन करेंगे तो आपके जीवन में आयी गरीबी धीरे-धीरे दूर हो जाएगी और आप पहले जैसे धनवान हो जाएंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *