बढ़ेगी मोदी सरकार की चिंता, लॉकडाउन 2.0 से हिंदुस्तान को होगा इतना आर्थिक नुकसान

नई दिल्ली ।। CORONA__VIRUS के चलते देश के पीएम मोदी 21 दिनों के लॉकडाउन को बढाकर 3 मई तक कर दिया है। आज से देशव्यापी लॉकडाउन 2.0 लागू हो गया है। लॉकडाउन की वजह से देश आर्थिक स्थिति पर गहरा प्रभाव पड़ने वाला है।

ब्रिटिश ब्रोकरेज हाउस बार्कलेज ने अपने नोट में कहा है कि हिंदुस्तान में लागू लॉकडाउन को 3 मई तक विस्तार मिलने से इकोनॉमी को 234.4 अरब डॉलर का झटका लगेगा और कैलेडर ईयर 2020 में देश की जीडीपी पूरी तरह से ठहर जाएगी। बार्कलेज ने अपने नोट में कहा है कि कैलेंडर ईयर 2020 में देश की इकोनॉमी की ग्रोथ जीरो रहेगी। वहीं यदि वित्त वर्ष के नजरिए से देखें तो वित्त वर्ष 2021 में देश की ग्रोथ 0।08 फीसदी पर रहेगी।

बता दें कि बार्कलेज ने पहले भी कहा था कि 3 हफ्ते के लॉकडाउन से हिंदुस्तान की इकोनॉमी को 120 अरब डॉलर का नुकसान हो सकता है। लॉकडाउन को 3 मई तक विस्तार मिलने के बाद बार्कलेज ने अपने इस अनुमान को बढ़ाकर 234.4 अरब डॉलर कर दिया है। बार्कलेज ने पहले अनुमान व्यक्त किया था कि कैलेडर ईयर 2020 में हिंदुस्तान की विकास दर 2.5 फीसदी रहेगी लेकिन लॉकडाउन को 3 मई तक विस्तार मिलने के बाद बार्कलेज का अनुमान है कि कैलेंडर ईयर 2020 में देश की विकास दर जीरो हो जाएगी।

पढ़िए-ये है दुनिया की इकलौती जगह जहां पर परमाणु बमों की सुरक्षा डॉल्फिन और समुद्री शेर करते हैं!

जबकि वित्त वर्ष के नजरिए से देखें तो वित्त वर्ष 2021 में देश की ग्रोथ रेट 3.5 फीसदी के पूर्वानुमान से घटकर 0.8 फीसदी पर आ जाएगी। इस ब्रोकरेज हाउस ने आगे कहा है कि चूंकि हिंदुस्तान कोरोना के विरूद्ध अपनी इस लड़ाई में 3 मई तक के विस्तारित लॉकडाउन में आ गया है, इसलिए अब तक देश को होने वाला आर्थिक नुकसान भी पूर्व में लगाए गए अनुमान से कहीं अधिक होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close