5AC423FB902F99F7B04A6C0E44CE75FA

T20 वर्ल्ड कप से पहले महेंद्र सिंह धोनी को लगा तगड़ा झटका, सच्चाई जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान

Loading...

नई दिल्ली॥ आर्थिक परेशानियों का सामना कर रही आवास निर्माण करने वाली कंपनी आम्रपाली समूह के हाऊसिंग प्रोजेक्ट बीच में ही रुक गए हैं। अब घर खरीदार सुप्रीम कोर्ट से मांग कर रहे हैं कि महेंद्र सिंह धोनी से 42.22 करोड़ रुपये वसूले जाएं।

घर खरीदार सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देने वाले हैं कि क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी को इस समूह ने जो 42 करोड़ की फीस दी है, उसकी वसूली की जाए। 23 जुलाई के सुप्रीम कोर्ट के फैसले में कहा गया था कि आम्रपाली ग्रुप ने घर खरीदारों के 42.22 करोड़ रुपये अपने ब्रैंड ऐंबेसडर धोनी को दिए और यह भुगतान धोनी की हिस्सेदारी वाली कंपनी रीति स्पोर्ट्स को किया गया। कोर्ट ने आम्रपाली के अधिकारियों से कहा था कि इस पैसे को कोर्ट में जमा करवाया जाए। हालांकि कोर्ट ने धोनी पर कोई टिप्पणी नहीं की थी।

घर खरीदारों के एडवोकेट एमएल लहोटी ने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट से मांग करेंगे कि धोनी को पैसे वापस करने के निर्देश दिए जाएं। 23 जुलाई के फैसले की बात करते हुए लहोटी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार किया है कि कंपनी के प्रबंधन ने आम्रपाली और रीति स्पोर्ट्स के बीच पैसे ट्रांसफर करने को लेकर अनुबंध हुआ था और यह राशि वसूल की जानी चाहिए।

Loading...

गौरतलब है कि इस मामले पर शुक्रवार को सुनवाई होनी थी लेकिन अब सुनवाई 16 दिसंबर तक के लिए टाल दी गई है। देखा गया है कि आम्रपाली की सहयोगी कंपनी सफायर डिवेलपर्स प्राइवेट लिमिटेड ने 6.52 करोड़ का भुगतान किया। जबकि 2009 से 15 के बीच आम्रपाली ग्रुप के द्वारा रीति स्पोर्ट्स को कुल 42.22 करोड़ का भुगतान किया गया।

ऑडिटर्स रिपोर्ट में कहा गया है कि यह भुगतान आम्रपाली के सीएमडी अनिल शर्मा की सहमति पर रीति स्पोर्ट्स को किया गया। इसके अलावा रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि स्पॉन्शरशिप एग्रीमेंट के तहत आईपीएल 2015 के दौरान चेन्नई सुपरकिंग्स के मैच के दौरान आम्रपाली के लोगो प्रदर्शित करने पर भी समहमति बनी थी हालांकि यह एक प्लेन पेपर डील थी जो कि सिर्फ आम्रपाली और रीति स्पोर्ट्स के बीच थी। इस पर चेन्नई सुपरकिंग्स के किसी अधिकारी के हस्ताक्षर नहीं थे।

पढ़िए-सहवाग से पूछा- कोहली, धोनी व गांगुली में कौन है सबसे अच्छा कप्तान, जवाब जानकर खुश हो जाएंगे

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com